Garhwa

गढ़वा: चर्म रोग का इलाज कराने आयी महिला को झोलाछाप डाक्टर ने लगाया इंजेक्शन, मौत

Garhwa: झोलाछाप डाक्टर लगातार मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. स्वास्थ्य विभाग ऐसे डाक्टरों पर कार्रवाई का दंभ तो भरता है, लेकिन स्थितियां जस की तस रह जाती हैं. डाक्टर गलत तरीके से मरीज का इलाज करते हैं और उनकी जान चली जाती है. पलामू प्रमंडल के गढ़वा जिले में कुछ इसी तरह की घटना सामने आयी है.

Jharkhand Rai

गढ़वा के वंशीधर नगर प्रखंड के चेचरिया में एक झोलाछाप डॉक्टर के गलत इलाज ने 26 वर्षीया महिला की जान ले ली. महिला हाथ में हुये चर्म रोग का इलाज कराने कथित डॉक्टर के पास गई थी.

घटना के बाद झोलाछापा चिकित्सक मौके से फरार हो गया है.

इसे भी पढ़ेंः19 सालों से #JMM आदिवासियों पर कर रहा Emotional अत्याचार : सालखन मुर्मू

Samford

लगातार इंजेक्शन लगाए जाने से बिगड़ी स्थिति

श्री बंशीधर नगर प्रखंड के बारोडीह निवासी मनोज राम शुक्रवार को अपनी पत्नी सुशीला देवी का इलाज कराने के लिए चेचरिया स्थित झोलाछाप चिकित्सक गुलजार अहमद के क्लीनिक में गया था.

झोलाछाप डाक्टर का क्लिनिक

मनोज राम ने बताया कि पत्नी के हाथ में दिनाय हुआ था.
उसी का इलाज कराने गुलजार अहमद के क्लीनिक में गये थे. गुलजार अहमद ने इलाज के क्रम में एक इंजेक्शन लगाया. इंजेक्शन लगाते ही महिला को उल्टी होने लगी. उल्टी होने पर उसने फिर दो इंजेक्शन लगा दिया. इंजेक्शन लगाते ही उसकी स्थिति और खराब हो गई.

हालत बिगड़ने के बाद अनुमंडलीय अस्पताल भेजा

स्थिति खराब होता देख गुलजार अहमद ने रोगी को नगर उंटारी अनुमंडलीय अस्पताल ले जाने को कहा. जब वे लोग अनुमंडलीय अस्पताल पहुंचे तो चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. इधर महिला की मौत की खबर मिलते ही झोलाछाप चिकित्सक गुलजार अहमद अपने क्लिीनिक से फरार हो गया.

मामले की सूचना मिलते ही काफी संख्या में लोग अनुमंडलीय अस्पताल पहुंचे. लोगों ने झोलाछाप चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर जमकर हंगामा भी किया.

इसे भी पढ़ेंः#Chandrayaan2 : चंद्रयान-2 का विक्रम लैंडर आज रात चांद पर उतरेगा, PM मोदी  ऐतिहासिक क्षण के  गवाह बनेंगे

मृतका के पति मनोज राम ने थाना प्रभारी एवं अस्पताल उपाधीक्षक को एक लिखित आवेदन देकर झोलाछाप चिकित्सक के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है. जिसके बाद पुलिस ने शव को अपने कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए गढ़वा भेज दिया है. और मामले की छानबीन कर रही है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंडः हड़ताल.. हड़ताल.. हड़ताल.. कुपोषित बच्चों को भोजन नहीं, गरीब बच्चों को शिक्षा नहीं…

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: