GarhwaJharkhand

गढ़वा : पुलिस की निष्क्रियता का परिणाम है धुरकी की आगजनी घटना, एसडीओ ने 1 माह पूर्व पत्र लिखकर किया था सतर्क

Garhwa : जिले के धुरकी थाना क्षेत्र के घघरी में हथियारबंद अपराधियों के द्वारा की गई आगजनी की घटना पुलिस की निष्क्रियता का परिणाम है. यहां बताते चलें कि गत माह 25 जून को विलासपुर, बीरबल होते हुये खुटिया तक सड़क का निर्माण करा रही वीआरएस नामक कंपनी के साईड इंजीनियर नागेंद्र सिंह को खुटिया स्थित अपने कैंप ऑफिस में से दिनदहाड़े अगवा कर लिया था. हालांकि पुलिस दबाव में चार घंटे बाद मुक्त कर दिया था.

घटना के बाद कंपनी के अधिकारियों ने एसडीओ जयवर्द्धन कुमार को पत्र देकर सुरक्षा मुहैया कराने का अनुरोध किया था, जिसके आलोक में एसडीओ ने गत 13 जुलाई को धुरकी एवं नगर ऊंटारी थाने की पुलिस को पत्र लिखकर कंपनी को सुरक्षा मुहैया कराने का निर्देश दिया था. साथ ही पत्र की प्रतिलिपि डीसी, एसपी गढ़वा एवं एसडीपीओ श्री बंशीधर को प्रेषित किया था, किंतु पुलिस ने एसडीओ के पत्र को हल्के में लिया और टारगेटेड कंपनी सुरक्षित नहीं किया.

इसे भी पढ़ें :मीराबाई चानू को लाइफटाइम फ्री पिज्जा देगा Dominos, ओलंपिक मेडलिस्ट ने मैच के बाद जताई थी Pizza खाने की इच्छा

फलतः पिछली घटना के ठीक एक माह बाद शनिवार की मध्यरात्रि हथियार बंद नकाबपोश अपराधियों ने घघरी में सड़क निर्माण में लगे कंपनी के वाहनों को आग के हवाले कर दिया. इस घटना में निर्माण कंपनी को करोड़ों का नुकसान हुआ है. दो हाईवा सहित चार वाहन जहां जलने से क्षतिग्रस्त हो गए हैं, वहीं तोड़फोड़ किए जाने से कई वाहनों को भारी नुकसान पहुंचा है.

advt

सूत्रों के मुताबिक पुलिस की निष्क्रियता के कारण अपराधी दो प्रतिशत लेवी के लिये लगातार कंपनी को निशाने पर ले रहे हैं. इसके बावजूद पुलिस इसे हल्के में ले रही है. पुलिस ने एसडीओ के निर्देशों का पालन किया होता तो शायद यह घटना नहीं घटती? उधर, अपराधियों की इस कार्रवाई से कंपनी के कर्मियों में हड़कंप मचा हुआ है.

इसे भी पढ़ें :महाराष्ट्र मॉडल से पैसे की उगाही का जरिया ढूंढ़ रही हेमंत सरकार : बाबूलाल मरांडी

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: