न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Garhwa: चुनाव प्रचार करने आये भानु की हुई हूटिंग, भानु चोर है, भानु चोर है… के लगे नारे, बैरंग भागे

4,004

Palamu / Garhwa: भवनाथपुर विधानसभा सीट से भाजपा के उम्मीदवार भानु प्रताप शाही को लगातार विरोध का सामना करना पड़ रहा है. कई चुनावी सभा में उनका खुल कर विरोध हो चुका है.

डंडई के केरकी में चुनावी सभा से पहले भानु की हूटिंग की गयी और भानु प्रताप चोर है, भानु प्रताप चोर है… के नारे लगाये गये. इससे परेशान होकर भानु बिना सभा किये वहां से निकल गये.

देखें वीडियो-

इसे भी पढ़ें – झारखंड में भाजपा का सीएम चेहरा रघुवर दास ही हैं भ्रष्टाचार के आरोपी

Mayfair 2-1-2020

चैपाल नहीं लगा पाये भानू

डंडई प्रखंड के सोनेहरा बाजार के चैपाल में विधायक भानु प्रताप शाही की चुनावी सभा का आयोजन किया गया था. सभा खत्म होने के बाद भानु प्रताप शाही जब जाने लगे तब बाजार चौक में कुछ ग्रामीणों एवं तृणमूल कांग्रेस के प्रत्याशी कन्हैया चौबे के द्वारा भानु प्रताप शाही का भारी विरोध किया गया. भानु चोर है, भानु डकैत है, भानु को भगाओ, भानु मुर्दाबाद आदि नारे लगाये गये.

इसे देखते हुए विधायक चुपचाप वहां से निकल गये. इस बीच दोनों के समर्थकों ने एक दूसरे के खिलाफ जम कर नारेबाजी की. इस दौरान कन्हैया चौबे ने कहा कि भाजपा की सरकार ने इस दागी विधायक को अपना टिकट देकर भ्रष्टाचारी को मौका दिया है. भानु चोर हैं और यह अपनी जान बचाने के लिए भाजपा में गये हैं. वहां जाकर अपना मुंह छुपाया है. आज के समय में भाजपा चोरों का सरदार बन गयी है. वही रारो में भी विधायक के विरोध की खबर का बाजार गरम रहा.

Sport House

विशुनपुरा के पिपरी में हो चुका है विरोध

इससे पहले विशुनपुरा प्रखंड के पिपरी गांव में भानु प्रताप शाही का विरोध किया गया था. पिपरी में भी भाजपा उम्मीदवार को चुनावी सभा करनी थी, लेकिन विरोध के कारण सभा को रद्द करना पड़ा.

इसे भी पढ़ें – अपने कार्यकाल में गृह जिले के विवि में शिक्षकों की कमी को पूरा नहीं कर सके रघुवर दास, एक शिक्षक के भरोसे 400 छात्र

क्यों हो रहा विरोध?

भानु प्रताप शाही पर करीब 130 करोड़ रुपये के दवा घोटाले का आरोप है. आरोप है कि स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए बाजार दर से अधिक की राशि पर दवा व स्वास्थ्य संबंधित उपकरण की खरीद ऊंचे दर पर की गयी.

इससे सरकारी राशि का दुरुपयोग हुआ. आपूर्तिकर्ताओं से मंत्री व अधिकारी लाभान्वित हुए. मोटी रकम वसूली की. आयरन की गोलियां जरूरत से ज्यादा खरीदी गईं. एक वर्ष में चार करोड़ से अधिक की आयरन की गोली खरीदी गयी, जबकि जरूरत इतनी नहीं थी. अन्य दवा व उपकरणों की खरीद में भी काफी गड़बड़ी की गयी.

बाजार में जिस उपकरण की कीमत 50-60 रुपये थी, उसे एक हजार रुपये में खरीदा गया. फोगला ग्रुप ने 48-58 करोड़ की दवा की आपूर्ति अकेले की. खरीदे गये कई उपकरण गोदामों में पड़े रह गये. हेल्थ सेंटरों को भी आवश्यकता से अधिक उपकरण दिये गये.

इसे भी पढ़ें – #Palamu: कार से बरामद हुए 60 लाख कैश, जांच में जुटा प्रशासन

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like