GarhwaJharkhandRanchi

गढ़वा एग्रीकल्चर कॉलेज : 7 करोड़ में भवन बना, मरम्मत के लिये दिये 10 करोड़, पर नहीं होती पढ़ाई

Ranchi : गढ़वा में साल 2012 से एग्रीकल्चर कॉलेज बनकर तैयार है लेकिन अभी तक पढ़ाई शुरू नहीं हुई है.

इस कॉलेज को लगभग सात करोड़ की लागत से बनाया गया. छात्रों का नामांकन भी इसी कॉलेज के नाम पर लिया गया. लेकिन पढ़ाई ये छात्र कांके स्थित बिरसा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में करते हैं.

हालांकि गढ़वा स्थित एग्रीकल्चर कॉलेज की संबद्धता भी बिरसा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी से है. गढ़वा के नाम पर एडमिशन लेने वाले छात्रों में सबसे अधिक लातेहार, गढ़वा और पलामू के छात्र प्रभावित हैं जिन्हें रांची में रह कर पढ़ाई करनी पढ़ रही है.

कुछ छात्रों ने बताया कि गढ़वा में एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी खुलने से उम्मीद थी कि क्षेत्र में एग्रीकल्चर की पढ़ाई होगी लेकिन काफी समय मे भवन बनकर खड़ा है और नष्ट हो रहा है.

इसे भी पढ़ें : #JSSC संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी, 1140 पदों के लिए 18 सितंबर से करें आवेदन

पिछले साल फिर से दस करोड़ दिया गया

कॉलेज भवन बेकार पड़े रहने के कारण अब बदहाल हो चुका है. पिछले साल भवन की मरम्मत के लिये दस करोड़ रूपये कृषि विभाग की ओर से दिये गये. लेकिन इसके बाद भी भवन में पढ़ाई शुरू नहीं हुई.

यह भवन छह एकड़ जमीन में बना है जिसमें लगभग 36 कमरे हैं. कृषि से संबधित हर विभाग के लिये कमरे बनाये गये हैं. परिसर में हॉस्टल भी है जिसमें छात्रों के रहने की सारी सुविधाएं हैं. सारी सुविधाएं होने के बाद भी सालों से भवन का उपयोग नहीं होने के कारण मरम्मत की नौबत आयी.

इसे भी पढ़ें : #Dhullu तेरे कारण : SSP से मिले बियाडा के पूर्व अध्यक्ष, कहा- मेरे खिलाफ साजिश रच रहे हैं बाघमारा MLA

ठेकेदार और विभाग के बीच हुआ मतभेद

सूत्रों की मानें तो अब तक कॉलेज में पढ़ाई शुरू नहीं होने की मुख्य वजह भवन बनाने वाले ठेकेदार और कृषि विभाग के बीच मतभेद है. भवन 2012 में बनने के बाद ठेकेदार की ओर से भवन कृषि विभाग को नहीं सौंपा जा रहा था.

जब ठेकेदार ने भवन विभाग को सौंप दिया तो मरम्मत के नाम पर और एक साल बीत गये. रांची यूनिवर्सिटी के सिंडिकेट सदस्य अटल पांडेय ने बताया कि इस संबध में राज्यपाल को ज्ञापन दिया गया है लेकिन अभी कोई सकारात्मक कार्रवाई की जानकारी नहीं है.

इन्होंने कहा कि बिरसा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में गढ़वा एग्रीकल्चर कॉलेज के छात्रों में काफी परेशानी है. उन्होंने बताया कि वर्तमान में गढ़वा एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में एक डीन एसके पॉल नियुक्त हैं. उनसे संपर्क की कोशिश की गयी लेकिन हो नहीं पाया.

इसे भी पढ़ें : #TVNL नहीं दे रहा है मृत कर्मियों के आश्रितों को अनुकंपा के आधार पर नौकरी

Related Articles

Back to top button