GarhwaJharkhand

गढ़वा: हल्ला बोल प्रदर्शन पर कार्रवाई, पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी सहित 4 नामजद, 200 अज्ञात पर केस दर्ज

Garhwa : गढ़वा के रंका मोड़ स्थित इंदिरा गांधी पार्क में बन रहे घंटाघर के विरोध में शनिवार को भारतीय जनता पार्टी के हल्ला बोल प्रदर्शन मामले में कारवाई की गई है. पुलिस ने बिना अनुमति रंका मोड़ पर प्रदर्शन करने के मामले में पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी सहित 4 के खिलाफ नामजद, जबकि 200 अज्ञात के खिलाफ सदर थाना में एफआईआर दर्ज की गई है.

विदित हो कि गढ़वा विधायक सह मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर द्वारा अपने निजी खर्च से बनवाये जा रहे घंटाघर के विरोध में शनिवार की दोपहर भाजपा द्वारा कोविड-19 के नियमों को तोड़ते हुए बिना परमिशन के हल्ला बोल प्रदर्शन किया था.

गढ़वा सदर प्रभारी थाना प्रभारी संजय कुमार यादव ने बताया कि इंदिरा गांधी पार्क में प्रदर्शन के दौरान नियुक्त स्ट्रेटिक मजिस्ट्रेट योगेंद्र यादव द्वारा थाने को दी गई लिखित सूचना के आधार पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी, जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश केशरी, एससी मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य जवाहर पासवान एवं नगर मंडल अध्यक्ष उमेश कश्यप के विरुद्ध नामजद एवं दो सौ अज्ञात पर भादवि की धारा 188, 268, 269, 270, 353, 51 तथा 56 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है.

Sanjeevani

बता दें कि इंदिरा गांधी पार्क में स्थानीय विधायक द्वारा अपने निजी खर्च से घंटाघर निर्माण के विरोध में शुक्रवार को भाजपा का एक प्रतिनिधिमंडल उपायुक्त को ज्ञापन सौंपकर 24 घंटे के अंदर कार्य को स्थगित करने का अल्टीमेटम दिया गया था. ऐसा नहीं होने पर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी गई थी. उसी के तहत शनिवार को दिन के करीब 10.30 बजे पूर्व विधायक पार्टी के सैकड़ो कार्यकर्ताओं के साथ उक्त निर्माण स्थल पहुंचे और निर्माण का विरोध किया. जमकर नारेबाज़ी करते हुए कार्य बंद करने की बात कही गयी.

उक्त स्थल पर विधि व्यवस्था को लेकर पुलिस प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद रहे. बाद में सदर एसडीओ तथा डीएसपी द्वारा द्वारा कई बार नेताओं से प्रदर्शन समाप्त करने का अनुरोध किया गया, परंतु नेता कार्यकर्ता अपनी मांग पर अड़े रहे. दोपहर 2 बजे एसडीओ द्वारा डीसी से बात करने के बाद कहा गया कि उपायुक्त के निर्देशन में अधिकारियों की एक जांच कमिटी बनायी गयी है, जो इस निर्माण मामले की जांच करेगी. जांच के बाद आग्रह पर कार्रवाई की जाएगी. तब तक के लिए काम को रूकवाया जाएगा. एसडीओ के मौखिक आश्वासन के बाद प्रदर्शन को समाप्त किया गया था.

इसे भी पढ़ें – रामगढ़: पुल निर्माण स्थल पर टीएसपीसी का उत्पात, जेसीबी और ट्रैक्टर को आग के हवाले किया

Related Articles

Back to top button