Crime NewsJharkhandRanchi

पुलिस कार्रवाई के बाद भी जारी है गांजा तस्करी, ओडिशा से झारखंड समेत कई राज्यों में होता है सप्लाई

Ranchi: पुलिस की कार्रवाई के बाद भी राज्य में गांजा तस्करी जारी है. ओडिशा के कोरापुट जिला झारखंड, बिहार, यूपी समेत कई राज्यों के लिए गांजा तस्करी का नया केंद्र बन गया है. गांजा तस्करी करने वालों का नेटवर्क इतना बड़ा हो चुका है कि वो बड़े पैमाने पर गांजे की तस्करी कर रहे हैं.

ओडिशा का गांजा झारखंड के कई शहरों से होते हुए बिहार, यूपी के शहरों में पहुंच रहा है. वहीं 18 अगस्त को रांची के नामकुम से करीब 54 लाख का गांजा पकड़ा गया था. इसमें कुल 140 किलो गांजा बरामद किया गया था. इस तस्करी के तार भी ओडिशा के कोरापुट से जुड़े हुए हैं.

इसे भी पढे़ें- स्वच्छता में चौथे साल भी इंदौर बना नंबर बन,100 से कम शहरों वाले साफ राज्य में झारखंड रहा आगे

झारखंड समेत कई राज्यों में हो रही गांजे की तस्करी

जानकारी के अनुसार झारखंड के हजारीबाग, धनबाद, रांची, जमशेदपुर और बिहार के कई शहर जैसे पटना, गया, औरंगाबाद समेत यूपी के कई शहरों में ओडिशा के कोरापुट से गांजे की तस्करी हो रही है. सिर्फ रांची की बात करें तो यहां एक साल के दौरान ओडिशा से पहुंचा करीब एक करोड़ रुपये का गांजा पकड़ा गया है.

अलग-अलग तरीके से होती है गांजे की तस्करी

गांजा तस्कर पुलिस को चकमा देने के लिए समय-समय पर तस्करी का तरीका बदलते रहते हैं. 18 अगस्त को रांची के नामकुम में पकड़े गये गांजा पिकअप वैन में प्लास्टिक में गांजा पैक था और उसे छिपाने के लिए ऊपर से केले के पत्ते डाल दिए गये थे, ताकि देखने वाले यह समझें कि गाड़ी में केला लाया जा रहा.

अगर सूचना नहीं हो तो ऐसे वाहनों को पकड़ना काफी मुश्किल है. वहीं नारियल की भूसी के अंदर भी गांजे को छिपाकर उसकी तस्करी की जाती है. गांजे को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचाने वालों को तस्करों द्वारा सिर्फ संबंधित व्यक्ति का फोन नंबर दिया जाता है. इसके अलावा उनके पास कोई भी जानकारी नहीं होती है. डिशा से झारखंड में प्रवेश करने के बाद और फिर झारखंड सीमा से निकलने पर उन्हें शहर के बारे में बताया जाता है.

इसे भी पढे़ें- बिकरू कांड में वांछित दो अभियुक्तों ने कोर्ट में किया सरेंडर

राज्य में हाल के महीने में पकड़े गये गांजा के खेप

18 अगस्त: नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो रांची की टीम ने 140 किलो गांजा के साथ दो तस्करों को गिरफ्तार किया था. जब्त गांजे की कीमत करीब 56 लाख रुपये आंकी गयी थी. नामकुम के रामपुर रिंग रोड से गांजा जब्त किया गया था.

12 अगस्त: सरायकेला एसपी मोहम्मद अर्शी के निर्देश पर पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली थी. पुलिस ने अन्तर्राज्यीय गांजा तस्कर गिरोह के एक सदस्य को 1.86 क्विंटल गांजा के साथ गिरफ्तार किया था.

17 जुलाई: नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की टीम ने रांची के नामकुम से गांजा के साथ नौ लोगों को दबोचा था. नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने 225 किलोग्राम गांजा बरामद किया था.

11 जुलाई: हजारीबाग बरही पुलिस ने 130 किलो गांजा के साथ दो युवक व एक महिला को पकड़ा था.

23 जून: ओडिशा कोरापुट से 164 किलो गांजा हजारीबाग लाया जा रहा था. गांजे के साथ दो लोग गिरफ्तार हुए थे.

इसे भी पढे़ें- लोन रिस्ट्रक्चर की छूटः बैंकों के लिए डरावने हालात को कुछ माह टालने की कोशिश में RBI

6 Comments

  1. I love looking through a post that can make people think. Also, many thanks for permitting me to comment!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button