Khas-KhabarRanchi

तीन दिनों की रिमांड में गैंगस्टर सुजीत सिन्हा ने खोले कई राज

Ranchi: गैंगस्टर सुजीत सिन्हा ने पुलिस की पूछताछ में कई खुलासे किये हैं. जमशेदपुर के घाघीडीह सेंट्रल जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे गैंगस्टर सुजीत सिन्हा को पुलिस ने जेल से गैंग संचालित करने, हत्या की योजना बनाने और रंगदारी वसूली मामले में 21 जनवरी से लेकर 23 जनवरी तक तीन दिनों की रिमांड पर लिया था.

बताया जा रहा है कि तीन दिनों की रिमांड में सुजीत सिन्हा ने राज्य के अपराध जगत से जुड़े गिरोह और अपने गिरोह के संबंध में कई जानकारी पुलिस को दी है.

इसे भी पढ़ेंःपुलवामा में गणतंत्र दिवस से पहले जैश आतंकियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़, तीन को सेना ने घेरा

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसके अलावा सुजीत सिन्हा ने पुलिस को बताया कि गैंगस्टर अखिलेश सिंह की हत्या के लिए उसके ही गिरोह के बिहार के बक्सर जिले के निवासी सुधीर दुबे ने योजना बनायी है.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

गैंगस्टर अखिलेश की हत्या की योजना की दी जानकारी

गैंगस्टर सुजीत सिन्हा ने रिमांड के दौरान पुलिसिया पूछताछ के दौरान एक अहम जानकारी दी. बताया जा रहा है कि सुजीत सिन्हा ने रिमांड के दौरान पुलिस को बताया कि गैंगस्टर अखिलेश सिंह की हत्या के लिए उसके ही गिरोह में बिहार के बक्सर जिले के निवासी सुधीर दुबे ने योजना बनायी है.

सुधीर दुबे कुछ महीने पहले तक घाघीडीह जेल में बंद था. फिलहाल जमानत पर बाहर है. उसने अपनी योजना को अंजाम तक पहुंचाने के लिए एक एके-47 सहित कई हथियार खरीदे हैं.

तीन दिनों की रिमांड पर गैंगस्टर सुजीत सिन्हा

गैंगस्टर सुजीत सिन्हा को जमशेदपुर पुलिस ने मंगलवार को तीन दिनों की रिमांड पर लिया था. इस दौरान पुलिस मुख्यालय के स्तर पर गठित विशेष टीम, सीआइडी के अधिकारी और जमशेदपुर पुलिस ने सुजीत सिन्हा से कई मामलों में पूछताछ की थी.

सुजीत सिन्हा के खिलाफ सीआइडी के डीएसपी अनिमेष गुप्ता ने बीते नवंबर को परसुडीह थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी थी.

इसे भी पढ़ेंःभीमा कोरेगांव हिंसाः मामले की जांच NIA को दिये जाने से केंद्र और महाराष्ट्र सरकार में ठनी

हत्या, रंगदारी समेत कई घटनाओं का आरोपी सुजीत सिन्हा

अपराध जगत की दुनिया में सुजीत सिन्हा एक के बाद एक कई घटनाओं को अंजाम देकर चर्चा में आया. इन घटनाओं में-

  • साल 2007 में पलामू के दो सगे भाई भूषण सिंह और उत्तम सिंह की रंगदारी नहीं देने पर हत्या.
  • वर्ष 2010 में हजारीबाग जेल में बंद रहने के दौरान पलामू के कुख्यात अपराधी और आजसू नेता बॉबी खान की दिनदहाड़े हत्या.
  • 2015 में रांची के पथ निर्माण विभाग के अभियंता समंदर सिंह को रंगदारी नहीं देने पर गोली मारकर हत्या की कोशिश.
  • साल 2016 में पलामू के अपराधी और अपने प्रतिद्वंदी डब्लू सिंह के शूटर ननकू की हत्या.
  • साल 2018 में पलामू में कोल खनन कर रही हिंडाल्को कंपनी के ऑफिस पर बम फेंकना.

इसे भी पढ़ेंः#DelhiElection: 668 उम्मीदवार आजमायेंगे अपनी किस्मत, केजरीवाल की सीट पर सबसे ज्यादा कैंडिडेट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button