NEWS

गैंगस्टर अनिल शर्मा ने दी मां को मुखाग्नि, पेरोल पर लाया गया है रांची

Ranchi : रंगदारी-हत्या सहित कई गंभीर कांडों का दोषी गैंगस्टर अनिल शर्मा कड़ी सुरक्षा के बीच दुमका केंद्रीय कारा से रांची लाया गया. अनिल शर्मा दुमका जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है. अनिल शर्मा को एक दिन के पेरोल पर रांची लाया गया है. वह अपनी मां के अंतिम संस्कार में शामिल होने आया और मां को मुखाग्नि दी.

बता दें कि भारी सुरक्षा के बीच अनिल शर्मा पुलिस की गाड़ी से स्वर्णरेखा घाट पहुंचा. इससे पहले ही स्वर्णरेखा घाट में चुटिया और नामकुम थाना की पुलिस मौजूद थी. पूरा स्वर्णरेखा घाट सुरक्षा घेरे में तब्दील था.

advt

गौरतलब है कि एक दिन के पेरोल पर गैंगस्टर अनिल शर्मा दुमका जेल से भारी सुरक्षा के बीच रांची स्थित आवास देर रात पहुंचा था. मां को मुखाग्नि देने के बाद अनिल शर्मा को वापस दुमका जेल ले लाया जायेगा. इससे एक वर्ष पूर्व 13 अप्रैल 2019 को गैंगस्टर अनिल शर्मा के पिता नंदेश प्रसाद शर्मा का निधन हुआ था. उस समय भी अनिल शर्मा पेरोल पर दुमका जेल से रांची भारी सुरक्षा के बीच लाया गया था.

इसे भी पढ़ें – रांची: टेरर फंडिंग के आरोपियों को हाइकोर्ट ने जमानत देने से किया इनकार

2017 में अनिल शर्मा को हजारीबाग जेल से दुमका किया गया था शिफ्ट

तीन वर्ष पहले डीजीपी डीके पांडेय ने रांची एसएसपी, रामगढ़, हजारीबाग के एसपी को पत्र लिखकर अनिल शर्मा पर शिकंजा कसने का आदेश दिया था. डीजीपी ने अपने पत्र के माध्यम से एसपी को बताया था कि हजारीबाग जेल में बंद रहने के बावजूद अनिल शर्मा सक्रिय है.

इसके बाद उसे हजारीबाग से दुमका जेल भेजा गया था. गैंगस्टर अनिल शर्मा के खिलाफ राज्य के अलग-अलग थानों में कुल 23 मामले दर्ज हैं. पिछले 20 सालों से अनिल शर्मा जेल में बंद है.

 जेल से मांग रहा था अनिल शर्मा रंगदारी

केंद्रीय कारा दुमका में उम्रकैद की सजा काट रहे गैंगस्टर अनिल शर्मा के खिलाफ सीआइडी रांची के पुलिस निरीक्षक महेश्वर प्रसाद रंजन ने दुमका के टाउन थाने में 29 सितंबर 2019 को प्राथमिकी दर्ज करायी थी. अनिल शर्मा पर जेल में रहते हुए रंगदारी मांगने, टेंडर मैनेज करने और हत्या की योजना बनाने का आरोप लगाया गया था.

इसे भी पढ़ें – CoronaUpdate: 24 घंटे में 92 हजार से अधिक नये केस, 80 हजार के करीब मौत का आंकड़ा

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: