Education & CareerJharkhandRanchi

गंगा क्वेस्ट – 2021 का कल होगा फाइनल राउंड, झारखंड से 28 प्रतिभागी होंगे शामिल

Ranchi : केंद्रीय जल शक्ति मंत्रालय द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय क्विज कंपटीशन गंगा क्वेस्ट – 2021 का कल फाइनल राउंड होगा. इस प्रतियोगिता में विश्व के 113 से ज्यादा देशों से चयनित 216 प्रतिभागी शामिल होंगे.

इन चयनित प्रतिभागियों में झारखंड से भी 28 प्रतिभागी भी हैं. राज्य के इन सफल प्रतिभागियों में खूंटी से 18,पूर्वी सिंहभूम से 4,बोकारो से 2,रांची, सरायकेला, देवघर और दुमका से एक एक चयनित प्रतिभागी शामिल हैं.

इस राउंड में क्विज मास्टर की ओर से सवाल पूछे जाएंगे. विजेताओं को लैपटॉप,टैबलेट,मेडल्स और प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा. आम दर्शक भी जुड़ सकते हैं कंपटीशन में.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें :बिहार : बीजेपी ने एमएलसी टुन्ना पांडे को पार्टी से किया निलंबित

The Royal’s
Sanjeevani

विभिन्न चरणों में चयनित हुए प्रतिभागियों के बीच लाइव कंपटीशन तो होगा ही, आम दर्शकों के लिए भी इस कंपटीशन में जुड़ने की अलग से व्यवस्था की गयी है. ये दर्शक अपने लैपटॉप और मोबाईल पर https://www.facebook.com/cleanganganmcg , www.gangaquiz.com एवं http://bit.ly/live-Quiz-Youtube पर जाकर कंपटीशन से जुड़ सकते हैं.

कंपटीशन में पूछे गए सवाल का जो दर्शक सबसे पहले जवाब व्हाट्सप नंबर 8285043882 के माध्यम से दे पाएंगे उनके लिए भी कई पुरस्कार की व्यवस्था की गयी है. अगर दर्शकों को कोई भी इस प्रतियोगिता से जुड़ी जानकारी चाहिए तो उन्हें इस नंबर 7042216179 पर संपर्क करना होगा.

चार चरणों में होगी फाइनल राउंड का प्रतियोगिता.

  • पहला- सुबह 10.30 से 11.30 तक
  • दूसरा- दोपहर 12.30 से 13.30 तक
  • तीसरा- अपराह्न 15.00 से 16.00 तक
  • चौथा- संध्या 17.00 से 18.00 तक

गौरतलब है कि अप्रैल महीने के प्रथम सप्ताह से इस क्विज कंपटीशन की शुरुआत हुयी थी और इसमें सबसे ज्यादा 1,10,111 आवेदन झारखंड की ओर से आये थे.

इसे भी पढ़ें :कोरोना से ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान की रफ्तार धीमी हुई लेकिन संकल्प बरकरार : मोदी

प्रतियोगिता में अधिक से अधिक भागीदारी के लिए नगर विकास,झारखंड सरकार एवं आवास विभाग और मानव संसाधन विकास विभाग झारखंड की ओर से निरंतर प्रयास किया गया.

विद्यालयों और महाविद्यालयों के छात्रों को भी इस प्रतियोगिता में अधिक से अधिक भागीदारी के लिए जागरुक किया गया. शैक्षणिक जगत में हो रहे डिजिटल प्लेटफार्म्स का भी बखूबी इस्तेमाल हुआ तब यह संभव हो पाया है.

राज्य शहरी विकास अभिकरण के निदेशक और नमामि गंगे परियोजना के झारखंड में परियोजना निदेशक अमित कुमार ने उम्मीद जताया है कि जिस प्रकार झारखंड इस प्रतियोगिता में भागीदारी में अव्वल रहा है उसी प्रकार अंतिम परिणाम भी बेहतर होंगे.

इसे भी पढ़ें : अस्पताल ने मृतक के परिजन से वसूला मनमाना बिल, प्रशासन ने दिया वसूली का आदेश

इधर स्टेट मिशन फॉर क्लिन गंगा की कम्यूनिकेशन एंड सोशल डेवलपमेंट मैनेजर अंजना भारती नें कहा है कि कंपटीशन में अंतिम चरण के लिए चयनित प्रतिभागियों को प्रतियोगिता से जुड़नें के तमाम नियम और शर्त बता दिए गए हैं.

दरअसल सरकार चाहती है कि अधिक से अधिक लोग गंगा सहित तभी नदियों के संरक्षण और उनकी साफ सफाई के लिए जागरूक हों.

इसे भी पढ़ें : पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी देनेवाला सलमान गिरफ्तार, जानिये क्या कारण बताया

Related Articles

Back to top button