BiharNEWS

गोपालगंज में उफान पर गंडक, बाढ़ की तबाही को रोकने के लिए बंद किया गया सत्तरघाट सेतु

GOPALGANJ: नेपाल के तराई इलाकों और उत्तर बिहार में लगातार हो रही बारिश की वजह से गंडक नदी उफान पर है. कई जगह नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. ऐसे में गंडक नदी की वजह आने वाली बाढ़ की तबाही को रोकने के लिए गोपालगंज के डीएम डॉ. नवल किशोर चौधरी ने बुधवार की शाम अहम फैसला लिया है. गोपालगंज और पूर्वी चंपारण को जोड़ने के लिए सत्तरघाट पर बने सेतु पर परिचालन रोक दिया गया है. साथ ही सेतु के दोनों तरफ एप्रोच पथ पर तीन जगह 810 मीटर की लंबाई काटने का निर्देश दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : सीएम नीतीश का बिहार की बेटियों को एक और तोहफा, अब इस क्षेत्र में 33 फीसदी आरक्षण

डीएम ने जल संसाधन विभाग के अभियंताओं और एनआईटी, पटना के विशेषज्ञ दल की जांच रिपोर्ट का हवाला देते हुए सत्तरघाट सेतु को बंद करने का आदेश दिया है. एनआइटी पटना और जल संसाधन विभाग की ओर से सौंपी गई रिपोर्ट के मुताबिक सत्तरघाट पुल की वजह से ही पिछले साल गोपालगंज में भयंकर बाढ़ आई थी और सारण तटबंध समेत कई बांध टूट गए थे. बाढ़ की वजह से सरकार का करोड़ों रुपये नुकसान भी हुआ था.

इसे भी पढ़ें : हाईकोर्ट ने रांची सदर हॉस्पिटल का पूछा स्टेटस, विजेता ने बताया ऑक्सीजन टैंकर पहुंच गया, जल्द चालू होगा प्लांट

advt

डीएम का कहना कि मॉनसून बाद सत्तरघाट सेतु के एप्रोच पथ पर तीन अतिरिक्त पुल का निर्माण कराया जाएगा, जिससे गंडक का पानी तेजी से सोनपुर में गंगा तक पहुंच सके. गोपालगंज के फैजुल्लाहपुर घाट से पूर्वी चंपारण के केसरिया के बीच गंडक नदी पर बने सत्तरघाट पुल के निर्माण में सरकार द्वारा 263.48 करोड़ राशि खर्च किया गया था.

इसे भी पढ़ें: जाने, मोहम्मद अजहरुद्दीन ने ऐसा क्या किया जो हैदराबाद क्रिकेट संघ ने अध्यक्ष पद से हटाया

हालांकि, सीएम नीतीश कुमार के उद्घाटन के एक महीने के अंदर ही 14 जुलाई, 2020 को नदी के पानी का दबाव पड़ने के कारण एप्रोच रोड टूट गया था. पुल का एप्रोच सड़क नदी की तेज धार में बह गया था, जिसके बाद विपक्ष ने सरकार को घेरा था और जमकर इस पर राजनीति हुई थी.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: