न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गढ़वा : स्वास्थ्य मंत्री के गृह जिले में बढ़ी भ्रूण हत्या, 12 दिनों में मिले दो भ्रूण

50

Garhwa/Palamu : राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी के गृह क्षेत्र विश्रामपुर विधानसभा क्षेत्र में झोला छाप डाक्टरों की करतूत रूकने का नाम नहीं ले रही है. 12 दिनों के अंदर भ्रूण मिलने की दूसरी घटना सामने आयी है. बुधवार को मिली भ्रूण को कुत्तों द्वारा नोंच दिया गया था. विश्रामपुर विस क्षेत्र के कांडी प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत सरकोनी पंचायत के सेमौरा स्थित पोखरा में एक बच्ची का भ्रूण मिला. कुछ ग्रामीणों के द्वारा देखने के बाद धीरे-धीरे बात आग की तरह चारों तरफ फैलने लगी.

कांडी बस्ती में भी गत 1 फरवरी को मिला था भ्रूण

भ्रूण को देखने के लिए काफी संख्या में लोग पोखरा के पास पहुंचे. भ्रूण मिलने से क्षेत्र में सनसनी फैल गयी है. भ्रूण को कुत्तों द्वारा नोंच दिया गया था. जिसे ग्रामीणों द्वारा तत्परता दिखाते हुए पोखरा के पास ही दफना दिया गया. कांडी प्रखंड में लगातार भ्रूण मिलने की वजह अब तक मालूम नहीं हो सकी है. कुछ लोगों के अनुसार क्षेत्र में झोला छाप डॉक्टरों की संख्या बढ़ गयी है. बिना लाइसेंस के कई क्लिनिक धड़ल्ले से चल रहे हैं. इन क्लिनिक में झोलाछाप डॉक्टर द्वारा गर्भपात कराया जाता है. लगातार भ्रूण मिलना उसी का परिणाम है. इसके पूर्व भी कांडी बस्ती में भी गत 1 फरवरी को इसी तरह का एक मामला सामने आया था. बारह दिनों के भीतर इसी तरह का एक और मामला सामने आने से क्षेत्र के लोगों में आक्रोश व्याप्त है.

झोला छाप डॉक्‍टरों की चांदी

झारखंड राज्य में प्रति वर्ष भ्रूण हत्या पर रोक लगाने के लिए करोड़ों रुपये खर्च किये जाते हैं. लेकिन इसका परिणाम नहीं निकल पाता. स्वास्थ्य मंत्री के गृह क्षेत्र में लगातार घटना के सामने आना इसके प्रमाण हैं. भ्रूण हत्या रोकने के लिए तमाम रणनीतियों को कागजों तक ही सीमित रखा जाता है. जमीनी पर इसकी सच्चाई दूर-दूर तक नजर नहीं आती. कार्रवाई की मुख्य कड़ी स्वास्थ्य विभाग की सक्रियता भी सामने नहीं आता. जिससे इलाके में झोला छाप डॉक्टरों की प्रैक्टिस धड़ल्ले से चलती है.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: