न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जी-7 सम्मेलन  : पीएम मोदी का फ्रांस में भव्य स्वागत,  ट्रंप से होगी मुलाकात, कश्मीर पर हो सकती है बात

पाकिस्तान और भारत में तनातनी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के बीच आज सोमवार को जी-7 सम्मेलन के इतर सीधी मुलाकात होनी है. 

80

Paris : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी G-7 समिट में हिस्सा लेने के लिए फ्रांस में हैं. जान लें कि तीन देशों के दौरे पर निकले प्रधानमंत्री  मोदी  का यह अंतिम पड़ाव है.  प्रधानमंत्री का शेड्यूल काफी टाइट है. रविवार शाम प्रधानमंत्री वहां पर पहुंचे तो कई देशों के प्रमुखों ने उनका जोरदार स्वागत किया. जानकारों के अनुसार जिस ग्रुप का भारत पक्का मेंबर नहीं है, उसके प्रमुख का इस तरह गर्मजोशी से स्वागत देखने लायक था.  पाकिस्तान और भारत में तनातनी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के बीच आज सोमवार को जी-7 सम्मेलन के इतर सीधी मुलाकात होनी है.

 ट्रंप कश्मीर पर मध्यस्थता की पेशकश कर चुके हैं

Trade Friends

जान लें कि  ट्रंप कई बार कश्मीर पर मध्यस्थता की पेशकश कर चुके हैं लेकिन भारत ने सिरे से उनकी मांग को खारिज करते हुए साफ किया यह मसला द्विपक्षीय है.  सूत्रों ने बताया कि भारत इस मामले पर ट्रंप को टो-टूक कह सकता है। अगर ट्रंप की ओर से कश्मीर का जिक्र हुआ तो पीएम मोदी राज्य में सामान्य स्थिति बहाल करने सहित अपनी सरकार के अन्य कदमों के बारे में जानकारी देंगे. कहा जा रहा है कि  ट्रंप भी चीन के साथ अमेरिका के ट्रेड रिश्तों की जानकारी पीएम मोदी को दे सकते हैं.

अमेरिकी सरकार के सूत्रों ने बताया,’राष्ट्रपति ट्रंप को भारतीय प्रधानमंत्री मोदी के साथ अपनी मीटिंग से काफी उम्मीदें हैं.  मीटिंग में रणनीतिक भागीदारी, आतंकवाद से निपटने और व्यापार को लेकर बातचीत की जायेगी. अमेरिका चाहता है कि भारत टैरिफ घटाने के साथ ही अपने मार्केट को खोले.

इसे भी पढ़ें –  NRC में नाम दर्ज करवाने के लिए मुसलमानों से ज्यादा हिंदुओं ने किया फर्जीवाड़ा, RSS ने किया इनकार

कश्मीर में मानवाधिकारों का कोई उल्लंघन नहीं हुआ है

इकनॉमिक टाइम्स के अनुसार, कश्मीर पर चर्चा उठने पर पीएम मोदी यह स्पष्ट करेंगे कि जम्मू और कश्मीर में मानवाधिकारों का कोई उल्लंघन नहीं हुआ है.  मीटिंग में ट्रंप अपने देश के व्यापार को लेकर चीन के साथ विवाद की जानकारी पीएम मोदी को दे सकते हैं.  चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर के कारण दुनियाभर में मंदी की आशंका गहरा गयी है.  हाल के समय में ट्रंप दो बार कश्मीर के मुद्दे पर मध्यस्थता करने की पेशकश कर चुके हैं,

Related Posts

#Mexico ने अवैध रूप से अमेरिका में घुसने की कोशिश कर रहे 311 भारतीयों को दिल्ली भेजा

भारतीयों ने अमेरिका में प्रवेश के लिए एजेंट्स को दिये थे 30 -30 लाख  

WH MART 1

लेकिन भारत ने ऐसे किसी कदम का विरोध करते हुए इसे भारत और पाकिस्तान के बीच का मुद्दा बताया है.  ट्रंप ने इसे मुद्दे पर मोदी से पिछले सप्ताह टेलीफोन पर बात की थी.  मोदी ने उन्हें बताया था कि कश्मीर को लेकर बहुत अधिक विरोध करना और भारत के खिलाफ हिंसा भड़काने की कोशिश से शांति को नुकसान होगा. बताया गया कि  ट्रंप ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान को इस मुद्दे पर संयम बरतने और तनाव कम करने की सलाह दी थी.

मोदी की प्रधानमंत्री शिंजो आबे, कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो से  मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो से भी मुलाकात की,   इन नेताओं के बीच गर्मजोशी देखने लायक थी. बता दें कि सोमवार को हर किसी की नजर G-7 पर रहेगी, क्योंकि इस बैठक से इतर  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मिलना है. दोनों नेता कई मुद्दों पर द्विपक्षीय वार्ता करेंगे.  रविवार को जब प्रधानमंत्री पहुंचे तो उन्होंने सबसे पहले ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन से मुलाकात की, दोनों नेताओं के बीच बॉरिस के पीएम बनने के बाद ये पहली मुलाकात की थी.

बता दें कि इस बार G-7 का आयोजन फ्रांस के बिआरिट्ज शहर में हो रहा है. इस बार क्लाइमेट चेंज, ट्रेड, अमेजन की आग समेत कई ऐसे मसलों पर बात होनी है, जो दुनियाभर में सुर्खियों में है. G-7 के मुख्य सदस्य कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, ब्रिटेन और अमेरिका हैं. लेकिन इस बार फ्रांस के राष्ट्रपति ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विशिष्ट तौर पर आमंत्रित किया है.

इसे भी पढ़ें – कश्मीर के लोगों की आवाज दबाने से ज्यादा एंटी-नेशनल क्या हो सकता है : प्रियंका गांधी 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like