न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मरीना बीच पर होगा करुणानिधि का अंतिम संस्कार, मद्रास हाईकोर्ट ने दी मंजूरी

316

Chennai : मद्रास हाईकोर्ट ने मरीना बीच में दफनाने को चुनौती देने वाली याचिकाओं को मंजूरी दे दी है. मद्रास हाईकोर्ट ने द्रमुक नेता एम करुणानिधि को मरीना बीच पर दफनाए जाने के लिए स्थान आवंटित करने की पार्टी की याचिका पर सुनवाई आज सुबह आठ बजे शुरू की.

इसे भी पढ़ें- जेपीएससी पीटी के पुनर्संशोधित रिजल्ट का विरोध शुरू, गोलबंद हो रहे हैं छात्र संगठन

सुबह आठ बजे तक स्थगित की गयी थी सुनवाई

hosp3

गौरतलब है कि तमिलनाडु सरकार ने कानूनी अड़चनों का हवाला देते हुए मरीना बीच पर दफनाने का स्थान आवंटित करने में असमर्थता जताई जिसके कुछ घंटों बाद द्रमुक ने अदालत का दरवाजा खटखटाया. देर रात कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश एच जी रमेश और न्यायमूर्ति एस एस सुदंर की प्रथम पीठ के समक्ष विशेष सुनवाई में द्रमुक की ओर से पेश हुए वकील ने सरकार से मरीना बीच पर करुणानिधि को दफनाने के लिए स्थान आवंटित ना करने का कानूनी आधार पूछा. मामले पर सुनवाई करते हुए कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश ने मामले की सुनवाई सुबह आठ बजे तक स्थगित कर दी थी.

इसे भी पढ़ें- गिरिडीह कॉलेज में पुस्तक खरीद घोटाला, टेंडर के विपरीत सप्लाई कर दी गईं लाखों की किताबें

द्रमुक ने एक सप्ताह लंबे शोक की घोषणा की

पार्टी प्रमुख एम. करूणानिधि के निधन के बाद द्रमुक ने मंगलवार रात एक सप्ताह लंबे शोक की घोषणा करते हुए कहा कि इस दौरान पार्टी का झंडा आधा झुका रहेगा. जुलाई 1969 से करीब आधी सदी तक पार्टी प्रमुख और पांच बार प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे अपने नेता को ‘‘ऐतिहासिक हीरो’’ बताते हुए द्रमुक ने एक विज्ञप्ति में कहा कि पार्टी के सभी कार्यक्रम और आयोजन एक सप्ताह के लिए स्थगित किये जाते हैं. पार्टी कार्यकर्ता अपने प्रिय नेता के अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में गोपालपुरम स्थित उनके आवास पर पहुंचे.

इसे भी पढ़ें- चिकनगुनिया ने हिंदपीढ़ी थाना पर भी बोला हमला, सभी पुलिसकर्मी आये चपेट में

पार्थिव शरीर के साथ-साथ हजारों की संख्या में शामिल थे द्रमुक कार्यकर्ता

अलवरपेट स्थित कावेरी अस्पताल से आवास तक करूणानिधि के पार्थिव शरीर के साथ-साथ हजारों की संख्या में द्रमुक कार्यकर्ता साथ चल रहे थे. इस बीच द्रमुक के कार्यवाहक प्रमुख और करूणानिधि के पुत्र एम. के. स्टालिन ने पार्टी कार्यकर्ताओं से शांति बनाए रखने की अपील की. स्टालिन ने कार्यकर्ताओं से अनुरोध करते हुए कहा कि मैं पार्टी पदाधिकारियों से अनुरोध करता हूं कि वे सुनिश्चित करें कि सभी कार्यकर्ता शांतिपूर्ण तरीके से वापस लौटें. उन्होंने अनुरोध किया कि कार्यकर्ता ऐसा कोई काम ना करें जिससे दिवंगत नेता का नाम खराब हो या सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचे. उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ असामाजिक तत्व मौजूदा हालात का नाजायज फायदा उठाने की कोशिश कर सकते हैं, ऐसे में कार्यकर्ता उनकी पहचान करें और उन्हें पकड़कर पुलिस को सौंप दे.

इसे भी पढ़ें- फर्जी नक्सली सरेंडर मामले में हाई कोर्ट सख्त, गृह सचिव तलब, अगली सुनवाई 6 सितंबर को

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: