NationalWorld

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने ट्विट कर भारत सरकार से कहा – मेरे सारे पैसे ले लो और सभी केस बंद कर दो

London : भारत का भगोड़ा शराब कारोबारी विजय माल्या ने भारत सरकार से एक बार फिर अपना सौ फीसदी कर्ज लेने के लिए गुरूवार को ही गुहार लगायी है. ब्रिटेन में रह रहे माल्या ने गुरूवार को ट्विट करके ये बात कही है. माल्या ने अपने ट्विट में कहा है कि सरकार कर्ज चुकाने के उसके प्रस्ताव को स्वीकार कर ले और उसके खिलाफ भारत में चल रहे सभी केसों को बंद कर दे.

इसे भी पढ़ें –#Jharkhand: राहुल शर्मा बने स्कूली शिक्षा साक्षरता विभाग के सचिव, 11 IAS अधिकारियों का तबादला     

 ट्विट करके सरकार से लगायी गुहार

ब्रिटेन में रहकर भारत में प्रत्यर्पण के केस का सामना कर रहे इस शराब कारोबारी ने गुरूवार को ट्विट करके सबसे पहले मोदी सरकार द्वारा 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेट के ऐलान पर बधाई दी. ट्विट करके लिखा कि, कोविड-19 पैकेज के लिए सरकार को बधाई देता हूं, सरकार जितना चाहे करेंसी छाप सकती है. लेकिन मेरे ठोचे से योगदान, जो स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का बकाया लोन पूरी तरह से चुकाना चाहता है, फिर भी उसे लगातार इग्नोर किया जा रहा है.

advt

 

adv

इससे आगे ट्विट में माल्या ने लिखा है कि, भारत सरकार कृपा करके बिना शर्त मेरे सारे पैसे ले ले और मेरे खिलाफ चल रहे सभी केसों को बंद कर दे.

पहले भी दे चुका है प्रस्ताव

यहां बता दें कि इससे पहले भी ये भगोड़ा शराब कारोबारी विजय माल्या भारत सरकार को अपना पूरा कर्ज चुकाने का प्रस्ताव दे चुका है. लॉकडाउन लागू होते है विजय माल्या ने ट्विट किया था और कर्ज चुकाने का प्रस्चाव भारत सकरकार के सामने रखा था.

ट्विट के जरिए माल्या ने कहा था कि ना तो स्टेट बैंक ऑफ इंडिया पैसे ले ने को तैयार है और ना ही ईडी उसकी अटैच प्रॉपर्टी रिलीज करने को तैयार है.

 हाल ही में लगा था कोर्ट का झटका

इससे पहले भारत के भगोड़े शराब कारोबारी को लंदन हाईकोर्ट से 20 अप्रैल को  झटका लगा था. दरअसल लंदन हाईकोर्ट में विजय माल्या ने भारत में अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील की थी. जिसपर 20 अप्रैल को फैसला आया था. माल्या की याचिका को लंदन रॉयल कोर्ट में लॉर्ड जस्टिस स्टीफन इरविन और जस्टिस एलिजाबेथ लिंग की दो सदस्यीय पीठ ने माल्या की अपील खारिज कर दी थी.

 गौरतलब है कि कि भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के अलावा मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में भारत में वांछित है. माल्या ने फरवरी के महीने में ही इंग्लैंड और वेल्स की हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी. जिसमें कोर्ट ने भी माना कि माल्या के खिलाफ भारत में कई बड़े आरोप लगे हैं.

इसे भी पढ़ें –प्रवासी मजदूरों का मामला :  जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस एपी शाह के बयान पर काटजू को क्यों है इतना कड़ा एतराज

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button