Lead NewsNational

IT विभाग 1 July से किनसे वसूलेगा अधिक TDS, इसकी पहचान के लिए बनाया नया सिस्टम

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने जारी किया सर्कुलर

New Delhi : आयकर विभाग ने टीडीएस (स्रोत पर कर कटौती) काटने और टीसीएस (स्रोत पर कर संग्रह) संग्रह करने वालों के लिए एक नई व्यवस्था तैयार की है जिसके जरिये उन व्यक्तिों की पहचान हो सकेगी उन आयकरदाताओं की पहचान हो सकेगी, जिन पर एक जुलाई से ऊंची दर से कर वसूला जाएगा.

वित्त वर्ष 2020-21 के बजट में यह प्रावधान किया गया है कि पिछले दो वित्त वर्षों में आयकर रिटर्न नहीं भरने वाले उन लोगों के मामले में स्रोत पर कर कटौती और स्रोत पर कर संग्रह अधिक दर से होगा, जिन पर दो वर्षों में प्रत्येक में 50,000 रुपये या उससे अधिक कर कटौती बनती है.

इसे भी पढ़ें :जानिए ऐसा क्या हुआ जो कोर्ट ने पूर्व PM एचडी देवगौड़ा पर लगाया दो करोड़ का जुर्माना

advt

सर्कुलर जारी किया

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने सोमवार को रिटर्न नहीं भरने वाले ऐसे लोगों के मामले में उच्च दर से कर कटौती/संग्रह को लेकर धारा 206एबी अैर 206सीसीए के क्रियान्वयन को लेकर सर्कुलर जारी किया.
आयकर विभाग ने ट्वीट किया, ”धारा 206एबी और 206सीसीए के लिये अनुपालन जांच को लेकर नई व्यवस्था जारी की गयी है. इससे स्रोत पर कर काटने वाले तथा टीसीएस संग्रहकर्ता के लिये अनुपालन बोझ कम होगा.”

इसे भी पढ़ें :वासेपुर के लाला खान हत्याकांड के तीनों आरोपी बोकारो से गिरफ्तार

अतिरिक्त अनुपालन बोझ पड़ सकता

सीबीडीटी ने कहा कि चूंकि टीडीएस काटने वाले या टीसीएस संग्रहकर्ता को व्यक्ति की पहचान को लेकर इसपर उचित ध्यान और कार्य करने की आवश्यकता होगी, अत: इससे उन पर अतिरिक्त अनुपालन बोझ पड़ सकता है.
बोर्ड ने कहा कि नई व्यवस्था – धारा 206एबी और 206सीसीए के लिए अनुपालन जांच’ – उन पर इस अनुपालन बोझ को कम करेगी.

नई व्यवस्था के तहत टीडीएस अथवा टीसीएस संग्रहकर्ता को उस भुगतानकर्ता अथवा टीसीएस देनदार का पैन प्रक्रिया में डालना है जिससे यह पता चल जायेगा कि वह ”विशिष्ट व्यक्ति” है अथवा नहीं.

इसे भी पढ़ें :पलामू: दो वर्ष से फरार विशाल हत्याकांड का आरोपी गिरफ्तार, गवाह को प्रभावित करने पहुंचा था मेदिनीनगर

‘विशिष्ट व्यक्तियों’ की तैयार की सूची

आयकर विभाग ने 2021- 22 की शुरुआत में ‘विशिष्ट व्यक्तियों’ की सूची तैयार कर ली है. यह सूची तैयार करते समय 2018- 19 और 2019- 20 को पिछले दो संबंधित वर्षों पर गौर किया गया है. इस सूची में उन करदाताओं के नाम हैं जिन्होंने आकलन वर्ष 2019- 20 और 2020- 21 के लिये रिटर्न दाखिल नहीं की है और इन दोनों वर्ष में प्रत्येक में उनका कुल टीडीएस और टीसीएस 50,000 रुपये अथवा इससे अधिक रहा है.

इसे भी पढ़ें :हाइकोर्ट ने हेल्थ डिपार्टमेंट से मांगा एफिडेविट- कब तक पूरी तरह से चालू होगा 500 बेड का सुपर स्पेशियलिटी सदर हॉस्पिटल

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: