BiharHEALTHJharkhandKhas-KhabarLead NewsMain SliderNationalNEWS

आज से 18+ के सभी लोगों को मुफ्त वैक्सीन, जानें हर डिटेल

RANCHI: आज से 18 से 44 साल तक के सभी लोगों को फ्री वैक्सीन लगाई जाएगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 7 जून को इसका ऐलान किया था. अब अगर आप सरकारी वैक्सीनेशन सेंटर में वैक्सीन लगवा रहे हैं तो आपको कोई शुल्क नहीं देना होगा.  पहले वैक्‍सीन लगवाने के लिए कोविन पोर्टल से अपॉइंटमेंट लेने की जरूरत होती थी. अब वैक्सीनेशन सेंटर पर ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन की सुविधा भी दी जाएगी, मलतब आप सीधे वैक्सीनेशन सेंटर जाकर टीका लगवा सकते हैं वहां आपका रजिस्ट्रेशन कर दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें : योग दिवस पर PM MODI: प्रमाद से प्रसाद तक ले जाता है योग, पढ़ें- मोदी के संबोधन की प्रमुख बातें

प्राइवेट हॉस्पिटल में इतने में मिलेगी वैक्सीन

 

advt

प्राइवेट अस्पतालों में अलग-अलग वैक्सीन की अलग-अलग कीमत होगी.स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, प्राइवेट हॉस्पिटल में कोविशील्ड की एक डोज 780 रुपए में मिलेगी, जबिक स्पुतनिक-V के लिए आपको 1145 रुपए चुकाने होंगे. यदि आप कोवैक्सीन लगवाना चाहते हैं तो आपको एक डोज के लिए 1410 रुपये चुकाने होंगे, इसके अलावा प्राइवेट हॉस्पिटल आपसे सर्विस चार्ज के रूप में 150 रुपए तक ले सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : रांची: बकरी बाजार में बनेगा मल्टी लेवल पार्किंग, अपर बाजार होगा जाममुक्त

गरीबों के लिए ई-वाउचर

 

इसके साथ ही आर्थिक तौर पर कमजोर तबके के लिए सरकार ने ई-वाउचर की व्यवस्था की है. इन वाउचर के जरिए गरीबों को प्राइवेट अस्पतालों में फ्री वैक्सीन लगाई जाएगी. ये नॉन ट्रांसफेरेबल होंगे. यानी वाउचर का इस्तेमाल सिर्फ वही व्यक्ति कर सकेगा जिसके नाम पर यह इश्यू किया जाएगा.

 

वैक्सीन सप्लाई के लिए पैमाना तय

 

वैक्सीनेशन पॉलिसी में बदलाव करते हुए भारत सरकार ने टीके की सप्लाई के लिए भी कुछ पैमाने तय किए हैं, जिसमें राज्य की आबादी, कोरोना संक्रमण के फैलाव की स्थिति, वैक्सीनेशन प्रोग्राम की प्रोग्रेस और वैक्सीन की बर्बादी का ध्यान रखा जाएगा. 75 फीसदी टीका वैक्सीन निर्माता कंपनियों से केंद्र सरकार खरीदेगी और बाकी 25 फीसदी कंपनियां निजी अस्पतालों को वैक्सीन बेच सकेंगी. सोमवार से केंद्र सरकार के अस्पतालों में भी 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीन लगनी शुरू होगी.

 

माना जा रहा है कि वैक्सीनेशन पॉलिसी में बदलाव होने से वैक्सीनेश की रफ्तार बढ़ेगी, अब राज्य ये शिकायत नहीं कर पायेंगे की उन्हें निर्माता कंपनी से वैक्सीन का कोटा नहीं मिल पा रहा है, वैक्सीन की खरीद से लेकर वितरण की जिम्मेदारी अब केन्द्र की होगी, लेकिन टीकाकरण अभियान की जिम्मेदारी राज्यों के पास होगी.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: