न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राफेल डील पर फ्रांस मीडिया का दावा,  दसॉ एविएशन के पास रिलायंस के अलावा कोई दूसरा विकल्प था ही नहीं

बुधवार को फ्रांस मीडिया की एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है. रिपोर्ट के अनुसार कंपनी दसॉ के आंतरिक डॉक्युमेंट इस बात की पुष्टि कर रहे हैं.

445

 NewDelhi : राफेल डील को लेकर फ्रांस की कंपनी दसॉ एविएशन के पास रिलायंस डिफेंस से समझौता करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं था.  बुधवार को फ्रांस मीडिया की एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है. रिपोर्ट के अनुसार कंपनी दसॉ के आंतरिक डॉक्युमेंट इस बात की पुष्टि कर रहे हैं. बता दें कि 59 हजार करोड़ रुपये के 36 राफेल लड़ाकू विमान के सौदे में रिलायंस दसॉ की मुख्य ऑफसेट पार्टनर है. फ्रांस की इंवेस्टिगेटिव वेबसाइट मीडिया पार्ट के अनुसार उनके पास मौजूद दसॉ के डॉक्युमेंट में इस बात की पुष्टि होती है कि उसके पास रिलायंस को पार्टनर चुनने के अलावा कोई और विकल्प नहीं था.

जान लें कि वेबसाइट मीडियापार्ट ने ही पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के उस कथन को प्रकाशित किया था,  जिसमें कहा गया था कि राफेल डील के लिए भारत सरकार ने अनिल अंबानी की रिलायंस का नाम प्रस्तावित किया था. इस कंपनी के अलावा दसॉ एविएशन के पास दूसरा विकल्प नहीं था. मीडियापार्ट के अनुसार 36 राफेल लड़ाकू विमान का कॉन्ट्रैक्ट रिलायंस डिफेंस के साथ समझौता कर दसॉ एविएशन ने पाया.

इसे भी पढ़ेंःकोर्ट, पीएमओ, राष्ट्रपति, सीएम, मंत्रालय, नीति आयोग और कमिश्नर किसी की परवाह नहीं है कल्याण विभाग को

कंपनी ने ओलांद की बात को पूरी तरह से खारिज कर दिया था

इस संबंध में पिछले माह फ्रांस की सरकार और दसॉ कंपनी ने ओलांद की बात को पूरी तरह से खारिज कर दिया था. इस क्रम में भारतीय रक्षा मंत्रालय ने भी ओलांद के दावे को विवादास्पद और गैरजरूरी कहा था. रक्षा मंत्रालय ने साफ किया था कि भारत ने किसी कंपनी का नाम नहीं सुझाया था. कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार समझौते में शामिल फ्रेंच कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट वैल्यू का 50 प्रतिशत भारत को ऑफसेट या रीइंवेस्टमेंट के तौर पर देना था. सरकारी  दावे को फ्रांस्वा ओलांद की यह बात खारिज करती है,  जिसमें कहा गया था कि दसॉ और रिलायंस के बीच समझौता एक कमर्शियल पैक्ट था जो दो प्राइवेट फर्म के बीच हुआ. इसमें सरकार की कोई भूमिका नहीं थी. बता दें कि रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने उस समय बयान दिया था कि पूर्व राष्ट्रपति के बयान वाली रिपोर्ट की पुष्टि की जा रही है. प्रवक्ता ने दोहराया था कि इस समझौतै में भारत सरकार और फ्रांस सरकार की कोई भूमिका नहीं थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: