BiharLead News

मॉनसून सत्र का चौथा दिन: विपक्ष का हंगामा, स्पीकर भड़के, तेजस्वी ने लाया कार्य स्थगन प्रस्ताव

बिहार विधान परिषद में खेल विश्वविद्यालय विधेयक 2021 पारित

Patna: बिहार विधान मंडल के मॉनसून सत्र का आज चौथा दिन है. पिछले 3 दिनों से लगातार सदन में हंगामा देखने को मिल रहा है. हंगामें के बीच बिहार विधान परिषद में खेल विश्वविद्यालय विधेयक 2021 पारित किया गया. इससे पहले स्पीकर विजय कुमार सिन्हा आरजेडी विधायक भाई वीरेन्द्र की टिप्पणी पर नाराज हो गए. वहीं नेता प्रतिपक्ष ने जातीय जनगणना का मामला सदन में उठाया वहीं माले विधायकों ने भ्रष्टाचार बेरोजगारी समेत अन्य मुद्दों को लेकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की.

इसे भी पढ़ें :  नम आखों से जज उत्तम आनंद को हजारीबाग के लोगों ने दी अंतिम विदाई, पिता ने दी मुखाग्नि

बिहार विधानमंडल के मॉनसून सत्र के चौथे दिन विधान परिषद में खेल विश्वविद्यालय विधेयक 2021 पारित किया गया. इसके बाद सदन में बिहार में खेल की स्थिति पर चर्चा हुई. विपक्ष की ओर से कांग्रेस एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा कि पटना स्थित खेल स्टेडियम मोइनुल हक से लेकर तमाम जिलों में बने खेल स्टेडियम की स्थिति बद से बदतर है साथ ही उन्होंने कहा कि खेल के लिए कोचिंग की व्यवस्था करनी होगी और खिलाड़ियों के लिए नौकरी की भी व्यवस्था करनी होगी.

advt

इसे भी पढ़ें : जज उत्तम आनंद मौत मामलाः हाईकोर्ट ने डीजीपी को किया तलब, कहा-राज्य में क्या हो रहा है

आरजेडी विधायक से नाराज हुए स्पीकर

सदन में आरजेडी विधायक भाई वीरेन्द्र की टिप्पणी पर स्पीकर विजय कुमार सिन्हा नाराज हो गए. दरअसल भाई वीरेन्द्र ने सदन में बेईमानी शब्द का इस्तेमाल किया जिसके बाद स्पीकर विजय कुमार सिन्हा ने भाई वीरेंद्र को सीधे चेतावनी दे डाली. स्पीकर ने कहा कि सत्ता पक्ष के मंत्री हो या विपक्ष के विधायक किसी को भी आसन के ऊपर ऐसी टिप्पणी करने की इजाजत नहीं होगी. उन्हें अपने शब्द वापस लेने होंगे जिसके बाद आरजेडी विधायक भाई वीरेंद्र ने अपनी सीट पर बैठे बैठे ही शब्द को वापस लेने की बात कही.

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने जातीय जनगणना की मांग को लेकर सदन में कार्य स्थगन का प्रस्ताव दिया. तेजस्वी ने कहा कि एनडीए सरकार देश के 70 प्रतिशत पिछड़े और अति पिछड़े हिंदुओं की जातीय जनगणना क्यों नहीं कराना चाहती इसका जवाब तलाशना होगा. उन्होंने कहा कि जातीय जनगणना आज की जरूरत है. अगर यह नहीं कराई जाए तो पिछड़े हिंदुओं की आर्थिक और सामाजिक प्रगति का सही आकलन नहीं हो सकेगा.

इसे भी पढ़ें : थर्ड वेव की आहट : केरल में कोरोना ने मचाया कोहराम, 31 जुलाई व 1 अगस्त को कंप्लीट लॉकडाउन

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: