NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिहार आश्रय गृह मामले में CBI हिरासत में भेजे गए चार लोग

125

Muzaffarpur : मुजफ्फरपुर के आश्रय गृह यौन उत्पीड़न मामले में यहां की एक अदालत ने शुक्रवार को राज्य समाज कल्याण विभाग के एक अधिकारी सहित चार लोगों को 24 सितंबर तक सीबीआई की हिरासत में भेज दिया. विशेष पॉक्सो (यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण) न्यायाधीश आर पी तिवारी ने यह आदेश दिया.

इसे भी पढ़ें- आयुष्मान भारत योजना: झारखंड सरकार और नेशनल इंश्योरेंस के बीच एमओयू

इन चारों को हिरासत में भेजा गया

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा चारों अभियुक्तों – रोजी रानी, गुड्डू, विजय और संतोष को न्यायाधीश के आवास पर पेश किया गया. इन चारों को सीबीआई ने एक दिन पहले ही गिरफ्तार किया था. रानी 2015 से 2017 के दौरान समाज कल्याण विभाग की सहायक निदेशक थीं. उन पर आश्रय गृह की लड़कियों द्वारा उत्पीड़न की बात बताए जाने के बावजूद कार्रवाई नहीं करने का आरोप है. अन्य सभी इस मामले के मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर द्वारा रखे गए स्टाफ के सदस्य थे. गौरतलब है कि बृजेश ठाकुर का एनजीओ इस आश्रय गृह को चलाता था.

इसे भी पढ़ेंःबिजली खरीद में फूंक दिया 20 हजार करोड़, अब कोयले की कमी, झारखंड के सात जिलों में ब्लैकआउट के हालात

कोर्ट में पेश किए जाने के पहले चारों की हुई चिकित्सीय जांच

अदालत में पेश किए जाने से पहले चारों को चिकित्सीय जांच के लिए अस्पताल ले जाया गया. उल्लेखनीय है कि मुंबई के टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टिस) द्वारा किए गए एक सामाजिक ऑडिट में आश्रय गृह में यौन उत्पीड़न होने का मामला सामने आया था. जिसके बाद इस संबंध में प्राथमिकी दर्ज की गई थी.

इसे भी पढ़ेंः बिजली संकट : BJP MLA ढ़ुल्लू महतो की वजह से बिजली कंपनियों को नहीं मिल रहा 6-7 लाख टन कोयला, क्या यह राष्ट्रद्रोह नहीं!

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

palamu_12

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

ayurvedcottage

Comments are closed.

%d bloggers like this: