न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नक्सलियों पर लगाम लगाने की कवायदः बूढ़ा पहाड़ इलाके में चार नये पुलिस पिकेट की तैयारी

पलामू रेंज पुलिस ने पेश की अक्टूबर माह की रिपोर्ट

20

Palamu: पलामू रेंज डीआईजी विपुल शुक्ला ने शुक्रवार को अपराध नियंत्रण को लेकर अक्टूबर महीने की रिपोर्ट पेश की. रिपोर्ट के अनुसार पलामू, गढ़वा और लातेहार जिले में जहां दौ सो से ज्यादा अपराधियों की गिरफ्तारी हुई. वही करीब एक सौ एंटी नक्सल ऑपरेशन चले. साथ ही नक्सलियों के गढ़ माने जानेवाले बूढ़ा पहाड़ के इलाके में चार नये पुलिस पिकेट के निर्माण की भी शुरुआत हुई है.

इसे भी पढ़ेंःपत्रकारों की पिटाईः हेलमेट पहन कर पत्रकार पहुंचे थाना, प्रशासन के…

पलामू रेंज से 256 अपराधी की गिरफ्तारी

पिछले महीने की रिपोर्ट पेश करते हुए डीआईजी ने बताया कि पलामू, गढ़वा और लातेहार से कुल 256 अपराधियों की गिरफ्तारी हुई. वहीं तीनों जिलों में कुल 93 एंटी नक्सल ऑपरेशन चलाये गये. जिसमें पलामू से 8, लातेहार-गढ़वा से 2-2 नक्सलियों की गिरफ्तारी हुई है. जबकि नक्सलियों के पास से 8 हथियार, AK-56 का मैगजीन और अपराधियों के पास से 7 हथियार बरामद हुए हैं. वहीं गढ़वा में 25 लाख के इनामी नक्सली बिरसई ने सरेंडर किया है. डीआईजी ने बताया की पूरे महीने में 139 कुर्की और 1244 वारंट का निष्पादन भी हुआ है.

इसे भी पढ़ेंःएक लाख करोड़ के ऑन गोईंग प्रोजेक्ट की रफ्तार धीमी, आपूर्तिकर्ताओं…

नक्सलियों पर नकेल की कवायद

पलामू के बूढ़ा पहाड़ को नक्सली सेफ जोन की तरह इस्तेमाल करते हैं. कई बार इस इलाके में सुरक्षाबलों पर हमला हुआ है. हाल ही में बूढ़ा पहाड़ से सर्च ऑपरेशन कर लौट करे जवानों पर नक्सलियों ने हमला किया था, जिसमें 6 जवान शहीद हो गये थे. लेकिन इस इलाके में नक्सलियों को रोकने के लिए पुलिस ने मुहिम छेड़ी है. बूढ़ा पहाड़ एरिया में 4 नए पुलिस पिकेट बनाने की तैयारी शुरू कर दी गई है. पोलपोल, कुटकु, बेहराटोली, हेसातु में पुलिस पिकेट बनेगा. वही पलामू के बिहार सीमा पर मंसुरिया में पिकेट निर्माण शुरू हो चुका है. रमकंडा और भंडरिया के बीच नया पिकेट स्थापित करने की तैयारी है. डीआईजी ने बताया कि पलामू पुलिस रेंज में 2 सालों में 26 नए ओपी की शुरुआत की गई.

इसे भी पढ़ेंःस्टेट बोर्ड ऑफ टेक्निकल एजुकेशन का होगा झारखंड तकनीकी विश्वविद्यालय में विलय

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: