NationalOFFBEAT

अंतिम संस्कार के चार महीने बाद आया ‘मृत’ बेटे का फोन, मांगी 20 लाख रुपये रंगदारी

Bijnour :  उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के एक व्यवसायी ने चार महीने से अधिक पहले अपने जिस 42 वर्षीय लापता बेटे की लाश पहचान कर उसका अंतिम संस्कार कर दिया था, पुलिस ने अब उसी बेटे को तीन अन्य लोगों के साथ पिता से 20 लाख की रंगदारी मांगने के आरोप मे हरिद्वार से गिरफ्तार किया है. पुलिस अधिकारी ने इसकी जानकारी दी. पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने शनिवार को बताया कि धामपुर के व्यापारी अशोक अग्रवाल का 42 वर्षीय बेटा पल्लव इस साल छह जुलाई को लापता हो गया था. इसके कुछ दिन बाद दिल्ली रेलवे स्टेशन पर एक शव मिला था. अशोक अग्रहवाल ने उसकी पहचान अपने बेटे पल्लव के रूप में की और उसका अंतिम संस्कार कर दिया.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेंः पाकिस्तान एक दशक बाद 2021 में शीर्ष क्रिकेट देशों की मेजबानी के लिए तैयार

सिंह ने बताया कि तीन दिन पहले पिता को पल्लव का फोन आया और उसने धमकी देते हुए 20 लाख रूपए की मांग की अग्रवाल ने इस बारे में पुलिस को सूचित किया. उन्होंने बताया कि पुलिस ने इस संबंध में पल्लव और उसके साथियों-संजीव तोमर, दीपक और शुभम को हरिद्वार से गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पल्लव निराशा में है और इसका फायदा उठाकर संजीव तोमर और उसके दोनों साथियों ने पिता पुत्र के बीच गलतफहमी पैदा कर अभी तक अशोक अग्रवाल से लगभग साढ़े तीन लाख रूपए ऐंठ चुके हैं. उन्होंने बताया कि पल्लव को इलाज की जरूरत है तीनों आरो​पी पल्लव को लगभग सवा चार माहीने तक हरिद्वार और इधर-उधर घुमाते रहे. उन्होंने बताया कि उनके खिलाफ संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया जायेगा.

Samford

इसे भी पढ़ेंः देश के इन राज्यों में कंपकंपायेगी ठंड, मौसम विभाग ने चेताया… हो जायें तैयार…

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: