Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

500 करोड़ रुपये से छह साल पहले बने चार इंजीनियरिंग कॉलेज, इस साल से एडमिशन के लिए तीन को ही मिली मान्यता

  • भवन निर्माण विभाग ने अब तक नहीं किया उच्च तकनीकी शिक्षा विभाग को सुपुर्द
  • इसी साल से होना है नामांकन
  • अभी चल रही पद सृजित करने की प्रक्रिया

Ranchi : झारखंड सरकार की ओर से बीते 20 साल से एकमात्र इंजीनियरिंग कॉलेज बीआइटी सिंदरी चलाया जा रहा है. इन सालों में 16 इंजीनियरिंग कॉलेज खुले लेकिन सभी पीपीपी मोड में चलाये जा रहे हैं. इस बीच राज्य सरकार की ओर से अपना इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने की कवायद हुई. छह साल पहले चार इंजीनियरिंग कॉलेज लगभग 500 करोड़ की लागत से बने पर अब तक शुरू नहीं हो सके. अब इस साल से एआइसीटीई ने एडमिशन लेने की अनुमति दी है.

इसे भी पढ़ेंःअतिक्रमण हटाओ अभियानः कांके डैम के किनारे बने घरों को तोड़ा गया

Catalyst IAS
ram janam hospital

चार में से तीन कॉलेज को ही मिली मान्यता

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

बताते चलें कि भवन निर्माण विभाग की ओर से कोडरमा, पलामू, गोला व जमशेदपुर में इंजीनियरिंग कॉलेज के भवन बनाये गये. भवन बनने के छह साल बाद भी पढ़ाई शुरू नहीं हो पायी.

इस वर्ष एआइसीटीई ने चार में से तीन कॉलेज को ही मान्यता दी है. जबकि जमशेदपुर में बने इंजीनियरिंग कॉलेज को वांछित कागजात सहित आधारभूत संरचना में कमी तथा फायर फाइटिंग की व्यवस्था नहीं रहने के कारण एआइसीटीई ने फिलहाल मान्यता नहीं दी है.

एक इंजीनियरिंग कॉलेज के भवन की निर्माण लागत लगभग 100 से 125 करोड़ रुपये है. इतना ही नहीं भवन निर्माण विभाग ने तकनीकी शिक्षा विभाग को भवन हैंड ओवर भी नहीं किया है.

इसे भी पढ़ेंःTokyo Olympics: मीराबाई चानू को मिल सकता है GOLD , उन्हें हराने वाली का होगा डोप टेस्ट

अब शुरू हो रही पद सृजन की कवायद

छह साल से बेकार पड़े इन इंजीनियरिंग कॉलेज में एडमिशन की अनुमति मिलने के बाद अब पद सृजन की कवायद विभाग ने शुरू की है. जमशेदपुर इंजीनियरिंग कॉलेज में 240 सीटों पर नामांकन होना है, जबकि अन्य तीन कॉलेजों में 300-300 विद्यार्थियों का नामांकन होना है.

एक इंजीनियरिंग कॉलेज में लगभग 60 शिक्षक व 75 कर्मचारियों की नियुक्ति होनी है. बताते चलें कि गोला इंजीनियरिंग कॉलेज को पहले महिला इंजीनियरिंग कॉलेज बनाया गया था. अब इसमें छात्राओं के साथ छात्रों का भी नामांकन होगा.

इसे भी पढ़ेंःदेवघर एम्स में ओपीडी खोलने को लेकर दिल्ली एम्स और सरकार को नोटिस

Related Articles

Back to top button