National

सुप्रीम कोर्ट के जज बनेंगे चार मुख्य न्यायाधीश, कॉलेजियम ने की अनुशंसा

New Delhi: उच्चतम न्यायालय के कॉलेजियम ने शीर्ष अदालत में बतौर न्यायाधीश पदोन्नत किए जाने के लिए उच्च न्यायालय के चार मुख्य न्यायाधीशों के नामों की अनुशंसा की है.

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाले कॉलेजियम ने हिमाचल प्रदेश, पंजाब और हरियाणा, राजस्थान और केरल उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीशों के नामों की सिफारिश की है.

advt

न्यायमूर्ति वी.रामसुब्रमण्यम हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश हैं, जबकि न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश हैं.

न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट राजस्थान उच्च न्यायालय के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश हैं और न्यायमूर्ति ऋषिकेश रॉय केरल उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश हैं.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड हाइकोर्ट के कार्यवाहक चीफ जस्टिस प्रशांत कुमार का मेडिका हॉस्पिटल में निधन

34 हो जायेगी सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या

शीर्ष अदालत में इन चार न्यायाधीशों की नियुक्ति के साथ ही कुल न्यायाधीशों की संख्या 34 हो जायेगी जो अब तक का सबसे ज्यादा संख्या बल है. हाल ही में संसद ने शीर्ष न्यायालय में प्रधान न्यायाधीश समेत कुल न्यायाधीशों की संख्या को 31 से बढ़ा कर 34 कर दिया.

तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में न्यायधीश रहे रामसुब्रमण्यम

जस्टिस रामसुब्रमण्यम 22 जून, 2019 को हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रहे थे.

30 जून, 1958 को पैदा हुए जस्टिस रामसुब्रमण्यम इससे पहले आंध्र प्रदेश और तेलंगाना हाई कोर्ट में न्यायधीश रहे थे. जस्टिस रामसुब्रमण्यम ने चेन्नई के विवेकानंद कॉलेज से विज्ञान में स्नातक और मद्रास लॉ कॉलेज से कानून की पढ़ाई की थी.

नौ जुलाई, 1958 को पैदा हुए जस्टिस मुरारी ने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से लॉ की डिग्री लेने के बाद 22 साल तक इलाहाबाद हाई कोर्ट में वकालत की थी.

बाद में सात जनवरी, 2004 को वो इलाहाबाद हाई कोर्ट में अतिरिक्त जज बने थे. वह दो जून, 2018 को पंजाब व हरियाणा हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किए गए थे.

इसे भी पढ़ेंःपटना: एके 47 राइफल लहराते युवकों का वीडियो वायरल, जांच में जुटी पुलिस

राजस्थान हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रहे रविंद्र भट

दिल्ली विश्वविद्यालय से कानून की शिक्षा हासिल करने के बाद जस्टिस भट ने दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में वकालत से करियर की शुरुआत की थी.

1958 में जन्मे जस्टिस भट को 2004 में दिल्ली हाईकोर्ट में अतिरिक्त जज नियुक्त किया गया था. पांच मई, 2019 को उन्हें राजस्थान हाई कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया था.

न्यायधीश ऋषिकेश रॉय, आठ अगस्त 2018 को केरल हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बने थे. इससे पहले वह 30 मई, 2018 से वहां के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के तौर पर काम कर रहे थे.

जस्टिस रॉय का जन्म एक फरवरी, 1960 को हुआ. उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से 1982 में एलएलबी की डिग्री हासिल की थी. वह 12 अक्टूबर, 2006 को गुवाहाटी हाई कोर्ट में अतिरिक्त जज नियुक्त हुए थे.

इसे भी पढ़ेंःलातेहार : सिस्टम की लापरवाही से कैंसर से पीड़ित बालिका की मौत

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: