न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नहीं रहे अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज एच. डब्ल्यू. बुश, 94 वर्ष की उम्र में निधन

28

Washington: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्लू बुश सीनियर का 94 साल की उम्र में निधन हो गया है. वो रक्त में संक्रमण के रोग से ग्रसित थे. तबीयत खराब होने के बाद हाल ही में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. लंबे समय से बीमारी के कारण वो व्हील चेयर पर थे. जॉर्ज बुश के परिवार ने शुक्रवार देर रात यह जानकारी दी. उनके बेटे एवं अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने एक बयान में कहा, ‘जेब, नील, मार्विन, डोरो और मैं यह घोषणा करते हुए काफी दुखी हैं कि 94 वर्ष के सराहनीय जीवन के बाद हमारे प्रिय पिता का निधन हो गया.’

अमेरिकी राजनीति के कद्दावर नेता रहे बुश

जॉर्ज बुश सीनियर अमेरिका की राजनीति में एक कद्दावर नेता रहे और उनका राजनैतिक करियर तीन दशक लंबा रहा. इनके कार्यकाल में ही शीत युद्ध का अंत हुआ था. इसके अलावे जॉर्ज बुश सीनियर ने कुवैत से इराकी सेना को हटाने के लिए वैश्विक गठबंधन बनाने में भी अहम भूमिका निभायी थी. भारत आने वाले 5वें राष्ट्रपति जॉर्ज डबल्यू बुश थे. साल 2006 में उन्होंने भारत का दौरा किया था. बुश ऐसे वक्त में भारत आए थे, जब 9/11 आतंकी हमले के खिलाफ अमेरिका ने अफगानिस्तान में युद्ध छेड़ा हुआ था.

12 जून, 1924 में जन्मे जॉर्ज बुश सीनियर अमेरिका के राष्ट्रपति बनने से पहले यूनाइटेड नेशन में एंबेस्डर, रिपब्लिकन नेशनल चेयरमैन, सीआईए के डायरेक्टर के पद पर भी रहे. साल 1988 में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर जॉर्ज बुश सीनियर अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए. हालांकि, 1992 के चुनाव में उन्हें राष्ट्रपति चुनाव में बिल क्लिंटन के हाथों शिकस्त मिली थी. इसके बाद वह सक्रिय राजनीति से धीरे-धीरे दूर होते चले गए और उन्होंने खुद को सामाजिक कार्यों के लिए समर्पित कर दिया.

अप्रैल 2018 में जॉर्ज बुश सीनियर की पत्नी बारबरा का 73 साल की उम्र में निधन हुआ था. बुश परिवार का अमेरिकी राजनीति में अहम स्थान रहा है. गौरतलब है कि जॉर्ज बुश के एक बेटे जेब बुश अमेरिका राज्य फ्लोरिडा के दो बार गवर्नर रहे. वहीं दूसरे बेटे जॉर्ज डब्लू बुश टेक्सास से 2 बार गवर्नर रहे. बाद में दो बार अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए.

इसे भी पढ़ेंःछत्तीसगढ़ और उत्तराखंड से महंगी है झारखंड में बिजली, अब वितरण निगम को 43 लाख कंज्यूमर से चाहिए 21,629 करोड़

इसे भी पढ़ेंःआदिवासी बालिका छात्रावास : शौचालय-स्नानघर में दरवाजा नहीं, पीने को पानी नहीं, बेटियों को ऐसे बचा और पढ़ा रही है सरकार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: