न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी की जयंती: पीएम मोदी, मनमोहन सिंह ने दी श्रद्धांजलि

1,707

New Delhi: देश के पूर्व प्रधानमंत्री और लोकप्रिय नेता अटल बिहारी वाजपेयी की आज 94वीं जयंती पर पूरा देश उन्हें याद कर रहा है. देशभर में इसे लेकर कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है. वही राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, पीएम मोदी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने उन्हें श्रद्धांजलि दी. राजधानी दिल्ली में ‘सदैव अटल’ स्मृति स्थल पर विशेष कार्यक्रम कर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी जा रही है.

mi banner add

बीजेपी मना रही सुशासन दिवस

केंद्र सरकार बड़े पैमाने पर पूर्व पीएम वाजपेयी की जयंती मना रही है. भारतीय जनता पार्टी देश के अलग-अलग हिस्सों में सुशासन दिवस के रूप में अटल की जयंती को मना रही है. वही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम के डिब्रूगढ़ में सबसे लंबा रेलवे-रोड ब्रिज देश को समर्पित करेंगे. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और पंडित मदन मोहन मालवीय की जयंती पर उन्हें नमन करते हुए मंगलवार को कहा कि उनके योगदान को सदा याद रखा जायेगा.

पीएम ने दी श्रद्धांजलि

अटल बिहारी वाजपेयी को नमन करते हुए प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में कहा, ‘ हम सबके प्रिय, पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी जी को उनकी जयंती पर शत-शत नमन.’

Related Posts

राजनाथ सिंह ने कहा, कश्मीर की समस्या का हल होगा,  दुनिया की कोई ताकत इसे रोक नहीं सकती

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को जम्मू-कश्मीर में  कहा कि  राज्य की सभी समस्याएं हल होंगी

मोदी ने एक अन्य ट्वीट में महामना को स्मरण करते हुए कहा, ‘ पंडित मदन मोहन मालवीय जी को उनकी जयंती पर कोटि-कोटि नमन. शिक्षा के क्षेत्र में अमिट योगदान और राष्ट्र के प्रति असीम समर्पण के लिए महामना सदा याद किए जाएंगे.’

इससे पहले सोमवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 94वीं जयंती की पूर्व संध्या पर उनकी स्मृति में 100 रुपये का सिक्का जारी करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि कुछ लोगों के लिए सत्ता जहां ऑक्सीजन के समान है, वहीं वाजपेयी अपने सार्वजनिक जीवन में लम्बे समय तक विपक्ष में बैठकर राष्ट्रहित से जुड़े विषय उठाते रहे. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘ सिद्धांतों और कार्यकर्ताओं के बल पर अटलजी ने इतना बड़ा राजनीतिक संगठन खड़ा कर दिया तथा काफी कम समय में देशभर में उसका विस्तार भी किया.’ साथ ही कहा कि अटलजी के बोलने का मतलब देश का बोलना और सुनने का मतलब देश को सुनना था. अटलजी ने लोभ और स्वार्थ की बजाय देश और लोकतंत्र को सर्वोपरि रखा तथा उसे ही चुना.

इसे भी पढ़ेंःन्यूज विंग ब्रेकिंग: निगरानी की जद में आये सात लाख का बैलून उड़ाने वाले IFS अफसर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: