न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूर्व मंत्री के पति ने किया सरेंडर, राजद का बड़ा आरोप ‘सीएम हाउस में छिपी हैं मंजू वर्मा’

14 दिनों की न्यायिक हिरासत में चंद्रशेखर वर्मा

52

Patna: बिहार की पूर्व मंत्री के पति और मुजफ्फरपुर बालिक केस में मुख्य आरोपी के करीबी चंद्रशेखर वर्मा ने सोमवार को सरेंडर कर दिया. सोमवर की सुबह चंद्रशेखर वर्मा ने बेगूसराय के मंझौल कोर्ट में सरेंडर किया. चंद्रशेखर वर्मा सुबह 11 बजे अपने समर्थकों के साथ कोर्ट पहुंचे और समर्पण किया, जिसके बाद कोर्ट ने चंद्रशेखर वर्मा को न्यायिक हिरासत में 6 नबंवर तक जेल भेजा दिया. इधर राजद ने एक ऐसा बयान दिया है, जिससे प्रदेश की राजनीति में भूचाल आ सकता है.

इसे भी पढ़ें : नाबालिग दे रहे हैं लूट, हत्या, दुष्कर्म जैसी घटनाओं को अंजाम, तीन सालों में बढ़े बाल कैदी

ज्ञात हो कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में नाम आने के बाद मंजू वर्मा के आवास पर मारे गए छापे में 50 अवैध कारतूस बरामद किए गए थे. इस मामले में पूर्व मंत्री मंजू वर्मा और उनके पति को नामजद किया गया था. वही ऊपरी अदालत से अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद से पुलिस और सीबीआई चंद्रशेखर वर्मा की लगातार तलाश कर रही थी.

इसे भी पढ़ेंःरांची के इलाहाबाद बैंक से संयुक्त निदेशक राजीव सिंह के भाई ने फरजी दस्तावेज पर लिया कर्ज

सीएम हाउस में छिपीं हैं मंजू वर्मा- राजद

भाई वीरेंद्र, राजद प्रवक्ता

पटना में एक न्यूज चैनल को दिये इंटरव्यू में राजद प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने बड़ा आरोप लगाया है. जेडीयू पर गंभीर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा है कि बिहार सरकार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा मुख्यमंत्री आवास एक अणे मार्ग में छिपी हैं. राजद नेता ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री आवास में मंजू वर्मा और उनके पति ने शरण ले रखी थी. और आरजेडी के दबाव के बाद उन्होंने सरेंडर किया है. उन्होंने कहा कि पुलिस की अगर हिम्मत है तो वहां छापेमारी करे. मंजू वर्मा की गिरफ्तारी वहां से हो जाएगी.

इसे भी पढ़ें: न्यूज विंग खास : झारखंड कैडर के 50-59 साल पार हैं 67 आईएएस, 27 साल की किरण सत्यार्थी हैं सबसे यंग IAS

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के घर से बरामद कारतूस मामले में वो फरार चल रहे थे. मंजू वर्मा के पति चन्द्रशेखर वर्मा की गिरफ्तारी नहीं होने पर पुलिस उनके घर की कुर्की जब्ती का आदेश दिया था. वही सुप्रीम कोर्ट ने भी बालिका गृह केस में मुख्य आरोपी के करीबी के तौर पर सामने आये चंद्रशेखर वर्मा की गिरफ्तारी नहीं होने पर बिहार पुलिस और सीबीआई पर सवाल उठाये थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: