न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूर्व मंत्री एनोस एक्का का सरकारी बंगला खाली कराया गया

453

Ranchi: पूर्व मंत्री एनोस एक्का का सरकारी बंगला शनिवार को खाली कराया गया. वरीय मजिस्ट्रेट अरगोड़ा सीओ रविंद्र कुमार के नेतृत्व में सीआइ शहर अंचल श्रवण कुमार झा, डोरंडा इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी अनिल कुमार कर्ण, भवन निर्माण के अधिकारी एवं भारी संख्या पुलिस बल की मौजूदगी में पूर्व मंत्री एनोस एक्का का नेपाल हाउस के पीछे स्थित आवास खाली करवाया गया. कई बार नोटिस भेजने के बावजूद एनोस एक्का क्वार्टर खाली नहीं कर रहे थे. शनिवार को इसे मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में खाली करा दिया गया. यह क्वार्टर किसी अधिकारी के नाम आवंटित हो गया है.

इसे भी पढ़ें- इविक्शन ऑर्डर निकालने के तीन माह के बाद भी सीसीएल की जमीन से नहीं हटाया जा सका अवैध कब्जा

आय से अधिक संपत्ति और मनी लॉन्ड्रिंग का मामला है दर्ज

पूर्व मंत्री एनोस एक्का के ऊपर आय से अधिक संपत्ति और मनी लॉन्ड्रिंग समेत अनेक केस दर्ज हैं. ईडी के अधिकारियों का कहना है कि एनोस एक्का ने अपने प्रभाव के बलबूते पर अपने रिश्तेदारों और पत्नी के नाम पर अकूत संपत्ति अर्जित की है. इसी मामले पर कार्रवाई करते हुए उनके आवास सहित कई जगहों की संपत्ति को सीज किया गया.

इसे भी पढ़ें – वन भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराने गये कर्मियों पर ग्रामीणों ने किया हमला, आधा दर्जन घायल

एनोस एक्का को मिली है आजीवन कारावास की सजा

बहुचर्चित पारा शिक्षक हत्याकांड में सिमडेगा कोर्ट ने पूर्व मंत्री एनोस एक्का को आजीवन कारावास की सजा सुनायी थी. साथ ही विभिन्न धाराओं में कुल एक लाख 65 हजार रुपये का जुर्माना भी उन पर लगाया था. इसी मामले में एक और दोषी धनेश बड़ाइक को भी उम्रकैद की सजा मिली है. साथ ही 25 हजार रुपये का जुर्माना भी सुनाया गया था. जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश नीरज कुमार श्रीवास्तव ने पूर्व मंत्री और उनके सहयोगी को सजा सुनायी थी. एनोस एक्का और धनेश बड़ाइक को 302/120बी, 364/120बी, 201/120बी, 171एफ/120बी के तहत आर्म्स एक्ट में ये सजा सुनायी गयी है.

इसे भी पढ़ें – अलीगढ़ कांड : बच्ची की हत्या मामले में और दो आरोपी गिरफ्तार, बच्ची की हत्या के बाद शव को फ्रिज में रखा !

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: