न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कन्हैया के प्रचार के लिए बेगूसराय पहुंची जेएनयू के पूर्व छात्र और नामी हस्तियां

कुमार को बिहार की बेगूसराय सीट से भाकपा ने टिकट दिया.

164

New Delhi : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (जेएनयूएसयू) के पूर्व अध्यक्ष की देशद्रोह मामले में 2016 में तिहाड़ से रिहाई के लिए आंदोलन चलाने वाले कॉमरेड उन्हें बिहार से लोकसभा भेजने के लिए प्रचार में जुटे हुए हैं.

कुमार को बिहार की बेगूसराय सीट से भाकपा ने टिकट दिया. वह भाजपा के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह और राजद के तनवीर हसन को चुनौती दे रहे हैं. इस सीट पर 29 अप्रैल को मतदान होगा. कुछ कॉमरेड बेगूसराय में ही डेरा डालकर कुमार के लिए वोट मांग रहे हैं.

जेएनयूएसयू के पूर्व सदस्य और कुमार के साथ देशद्रोह के आरोप का सामना करने वाले रामा नागा दो हफ्तों से बेगूसराय में हैं.  उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा कि सरकार ने हमें झुकाने की  भरपूर  कोशिश की. हमारा नाम दुनिया के इतिहास में उन कुछ लोगों के साथ दर्ज किया जाएगा, जिन पर देशद्रोह का आरोप लगाया गया था.

hosp3

इसे भी पढ़ें – जेएमएम उम्मीदवार जगरनाथ महतो को पता होना चाहिए कि नेता का सौदा हो चुका है : आजसू

कन्हैया ने बेगूसराय में सकारात्मक शुरुआत की

उन्होंने कहा कि वे इसे नकारात्मक टैग बनाना चाहते थे. लेकिन कन्हैया ने इसमें से सकारात्मक शुरुआत की और बेगूसराय में अपनी जड़ों से जुड़े रहे जो वाकई तारीफ के काबिल है. नागा ने कहा कि  हम अपनी-अपनी जिदंगियों में अलग-अलग परियोजनाओं पर आगे बढ़ गए.

मगर हमारी विचारधारा अब भी एक है और इस प्रचार अभियान ने हमें फिर से एक कर दिया है. कुमार की रिहाई के लिए चलाए गए अभियान में प्रतिष्ठित चेहरा रही शहला रशीद भी उनके लिए प्रचार कर रही हैं.

रशीद ने कहा कि दशकों बाद लोग एक ऐसे प्रतिनिधि की प्रतीक्षा कर रहे हैं जो नाइंसाफी के खिलाफ बोलने की हिम्मत कर सकता है और कुमार ऐसे ही हैं.

रशीद जम्मू कश्मीर पीपल्स मूवमेंट में शामिल होकर मुख्यधारा की राजनीति में आ चुकी हैं. इसके अलावा  बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर भी बेगूसराय में हैं. वह जेएनयू की पूर्व छात्रा हैं और 2016 में कुमार और खालिद का समर्थन करने के लिए सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया गया था.

स्वरा भास्कर ने कहा कि  कन्हैया कुमार दोस्त हैं और मेरे ख्याल से वह हमारी तरफ से एक अहम लड़ाई लड़ रहे हैं. अगर वह जीतते हैं तो यह भारतीय लोकतंत्र की जीत होगी.

देशद्रोह के मामले में कुमार के साथ जेल जाने वाले उमर खालिद और अनिरबान भट्टाचार्य कुमार के पक्ष में सोशल मीडिया पर प्रचार-अभियान चला रहा हैं. कुमार को जेएनयू के लापता छात्र नजीब अहमद की मां फातिमा नफीस का भी आशीर्वाद मिला हुआ है.

इसके अलावा  गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी और कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड भी युवा नेता के लिए प्रचार कर रही हैं.

इसे भी पढ़ें – पिछली बार नरेंद्र मोदी के खिलाफ लड़ा था चुनाव, इस बार रांची लोकसभा से चुनावी मैदान में

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: