JamshedpurJharkhandNEWS

Jharkhand के पूर्व मंत्री डॉक्‍टर द‍िनेश षाड़ंगी ने परमाणु वैज्ञान‍िकों से की खास अपील, जानि‍ए

Jadugora : महाराजा श्री रामचंद्र भजोदेव विश्वविद्यालय बारीपदा में आयोज‍ित राज्यस्तरीय परमाणु शोध और तकनीक विद्या संबंधित कार्यशाला में झारखंड के पूर्व स्वास्थ मंत्री डॉक्टर दिनेश षाड़ंगी ने परमाणु शक्ति का गृह जादूगोड़ा तथा उससे संलग्न नरवा एवं तूरामड़ी क्षेत्र में उत्पन्न होनेवाली स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए परमाणु वैज्ञानिक का आह्रवान किया.

भाभा परमाणु शोध केंद्र (BARC) के निदेशक डॉक्टर अजीत कुमार मोहंती ने कार्यशाला का उदघाटन किया. देश में पहली बार BARC के निदेशक डॉक्टर अजीत कुमार मोहंती के नेतृत्व में भाभा परमाणु विज्ञान शोध केंद्र, परमाणु विज्ञान शोध परिषद, पदार्थ विज्ञान प्रतिष्ठान, राष्ट्रीय विज्ञान शिक्षा अनुसंधान (नाइजर) के 26 विख्यात परमाणु वैज्ञानिक इस कार्यशाला में शाम‍िल हुएमुख्य अतिथि मोहंती ने कहा कि परमाणु शोध केवल शोध तक सीमित नहीं रखकर जनविमुखी होकर आम आदमी की जिंदगी में वास्तविक प्रयोग करने की आवश्यकता है. कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलपति प्रो.किशोर कुमार बासा ने की.

मयूरभंज के मूल न‍िवासी हैं डॉक्‍टर मोहंती
गौरतलब हो क‍ि डॉक्टर मोहंती मयूरभंज के कुआमरा गांव के मूल निवासी हैं. उनकी स्नातक की शिक्षा एमपीसी कॉलेज बारीपादा में हुई. विश्वविद्यालय की ओर से उन्हें अंग वस्त्र और मांग पत्र देकर “भूमिपुत्र सम्मान” से सम्मानित किया. साथ-साथ मंच पर उपस्थित सभी वैज्ञानिकों एवं डॉक्टर मोहंती की 87 वर्षीय माता रतनमनी मोहंती को भी अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया. पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर दिनेश षाड़ंगी ने डॉक्टर मोहंती को अंग वस्त्र तथा पत्‍नी द्वारा रचित पुस्तक “असमर्थ पुरुष” देकर सम्मानित किया. पीजी काउंसिल के अध्यक्ष प्रमोद सतपती ने धन्यवाद ज्ञापन किया. ओडिशा के उच्च शिक्षा के उपाध्यक्ष डॉक्टर अशोक कुमार दास, सरकार की ओर से सभी वैज्ञानिक का स्वागत करते हुए कहा क‍ि परमाणु शोध ही देश को आत्मनिर्भर भारत बना सके.

Sanjeevani

ये भी पढ़ें-Jamshedpur में जाम का झाम, मानगो पुल से गुजरने में राहगीरों के छूट रहे पसीने, जान‍िए ताजा हाल

Related Articles

Back to top button