BiharLead News

जदयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने पार्टी से दिया इस्तीफा

Patna: जेडीयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने शनिवार को  पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देने का ऐलान उन्होंने किया है. आरसीपी सिंह ने चेतावनी देते हुए कहा कि जो लोग शीशे के घर में रहते हैं वो दूसरों के घर पर पत्थर नहीं फेंका करते. इससे पहले भी आरोप लगाये गये क्या कर लिए. आरसीपी सिंह ने यह तक कह दिया कि सात जन्मों में भी नीतीश कुमार प्रधानमंत्री नहीं बन पाएंगे. यह भी कहा कि जिसने नोटिस भेजा उसने मेरे नाम के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री लिखा हैं पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष बोलने में उन्हें शर्म लग रही है क्या?

इसे भी पढ़ें : COMMONWEALTH GAMES 2022:  झारखंडी खिलाड़ियों की बदौलत LAWN BALL में भारतीय पुरुष टीम ने जीता सिल्वर मेडल

आरसीपी सिंह ने कहा कि जेडीयू डूबता हुआ जहाज है. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि जेडीयू का झोला ढोने से कोई फायदा नहीं होने वाला. मेरी इमेज को जान-बुझकर खराब करने की कोशिश की जा रही है. जालसाज लोगों को अब यही सब काम बचा है. जदयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह को उनकी ही पार्टी की तरफ से नोटिस जारी कर यह पूछा गया था कि 2013-2022 के बीच इतनी संपत्ति उन्होंने कैसे बनाई? मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह ने बताया कि उनकी एक बेटी आईपीएस और दूसरी अधिवक्ता है. 2010 से ही दोनों बेटियां इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करती आ रही हैं. आरसीपी सिंह ने कहा कि उनके पिता भी सरकारी नौकरी में थे. उन्होंने अपनी पूरी संपत्ति हमारी दोनों बेटियों के नाम कर दी थी.

ram janam hospital
Catalyst IAS

आरसीपी सिंह ने कहा कि जमीन की खरीद कई टुकड़े में हुई थी. कुछ मामला जमीन के बदले जमीन का भी है. शहर की तुलना में गांव की जमीन सस्ती होती है. जमीन खरीद में उनके बैंक अकाउंट से एक रुपये का भी लेन-देन नहीं हुआ है. हमारे ऊपर जो भी आरोप लगाये जा रहे हैं वो निराधार है. उन्होंने कहा कि मेरे नाम से ना कोई जमीन है ना ही मेरे अकाउंट से पैसे का ट्रांसफर हुआ है. मैं जमीन का आदमी हूं आज तक जहां भी रहे हैं पूरी गरिमा के साथ काम किया है. कोई बता दें कि किसी का कभी चाय तक पी है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें : Vice President Election 2022 : भारत के 14वें उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़, मार्गरेट अल्वा को हराया

Related Articles

Back to top button