National

#Jammu_Kashmir के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी खत्म, सात माह बाद  रिहा होंगे

विज्ञापन

NewDelhi :  जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी सात माह बाद खत्म कर दी गयी है. राज्य सरकार ने शुक्रवार को नजरबंदी खत्म करने का आदेश जारी किया. जम्मू-कश्मीर से Article 370 हटाये जाने के बाद पिछले साल 4 अगस्त से फारूक अब्दुल्ला नजरबंद थे. अब्दुल्ला लगभग साढ़े सात महीने से नजरबंद थे. उन्हें अपने घर पर ही नजरबंद किया गया था.

सूत्रों के अनुसार 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से Article 370 हटाये जाने के बाद से घाटी में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए वहां के स्थानीय नेताओं को नजरबंद कर लिया गया था. इनमें फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और सज्जाद लोन सहित कई नेता शामिल थे.

advt

इसे भी पढ़े : सिंधिया के खिलाफ बंद जमीन घोटाला केस फिर खुला, आर्थिक अपराध शाखा ने शुरू की जांच

15 सितंबर को पब्लिक सेफ्टी एक्ट का केस दर्ज किया था

जान लें कि पिछले दिनों रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों के हिरासत में रखे जाने के नजरबंदी पर कहा था कि इन तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों कि रिहाई के लिए वो खुद प्रार्थना कर रहे हैं. सिंह ने उम्मीद जताई थी कि रिहा होने के बाद तीनों पूर्व CM कश्मीर के हालात को सामान्य बनाने और विकास करने में योगदान देंगे.

सरकार ने उनके खिलाफ पिछले साल 15 सितंबर को पब्लिक सेफ्टी एक्ट का केस दर्ज किया था. इसके बाद उन्हें तीन महीने के लिए नजरबंद कर दिया गया था. तीन महीने की मियाद 15 दिसंबर को खत्म होने वाली थी, उससे दो दिन पहले यानी 13 दिसंबर को उनकी नजरबंदी 3 महीने के लिए बढ़ा दी गयी थी. अब उनकी नजरबंदी को खत्म करने का फैसला किया गया है.

adv

इसे भी पढ़े :  #Corona ने लगाया शिक्षा पर आपातकाल! उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और दिल्ली में 31 मार्च तक स्कूल और कॉलेज बंद

 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close