National

…तो पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे हो सकते हैं कांग्रेस के नये अध्यक्ष

NewDelhi : पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे  कांग्रेस के अगले अध्यक्ष चुने जा सकते हैं.  खबरों के अनुसार कांग्रेस में  राहुल गांधी के उत्तराधिकारी के नाम पर मुहर लग चुकी है. संडे गार्जियन  के अनुसार गांधी परिवार ने इस पद केलिए मौजूदा दौर में  सबसे उपयुक्त नेता सुशील कुमार शिंदे को माना है. कांग्रेस आलाकमान सभी नामों पर विचार करने के बाद गांधी परिवार की सलाह लेकर पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे को पार्टी के अगले अध्यक्ष के तौर पर चुनने को तैयार है. यहां तक कि गांधी परिवार के सलाहकार, वरिष्ठ, पार्टी के प्रमुख नेताओं ने भी उन्हें यह दायित्व सौंपने की वकालत की है.  

Jharkhand Rai

सुशील कुमार शिंदे के नाम पर सहमति बनने से पहले मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत, जनार्दन द्विवेदी से लेकर एके एंटनी और मुकुल वासनिक तक नामों पर चर्चा की गयी थी. जानकारी के अनुसार सुशील कुमार शिंदे को आज इसके बारे में जानकारी दी जा सकती है. इस बाबत शिंद राहुल गांधी से मुलाकात करने वाले हैं . ऐसी खबरें हैं कि प्रियंका गांधी ने कांग्रेस के अगले अध्यक्ष को लेकर अपना मंतव्य जाहिर कर दिया है. हालांकि वह इस घोषणा से पहले परिवार के साथ विदेश चली जायेंगी.

इसे भी पढ़ें – पीएम मोदी ने मन की बात में कहा, जल संरक्षण को जनांदोलन का रूप दें,  हजारीबाग के सरपंच का जिक्र किया

सुशील कुमार शिंदे महाराष्ट्र के लिए जाने-माने दलित नेता

 संडे गार्जियन की खबर के अनुसार इस समय कांग्रेस में राहुल गांधी के बाद अध्यक्ष पद के सबसे मजबूत उम्मीदवार मल्लिकार्जुन खड़गे हैं. लेकिन खड़गे ने लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष रहने के दौरान कई फैसले बिना गांधी परिवार की सलाह से लिये थे. इसी तरह गुलाम नबी आजाद को अध्यक्ष बनाने पर प्रतिद्वंदी पार्टी के लिए एक आसान निशाना देना साबित हो सकता है. क्योंकि हिन्दुत्व कार्ड इन दिनों चरम पर है. एंटेनी ने खुद को स्वतः अलग कर लिया है, जनार्दनद्विवेदी ने भी बीते कुछ दिनों से खुद को सक्रिय राजनीति से अलग कर रखा है. ऐसे में पार्टी सुशील कुमार शिंदे पर ही भरोसा जताना तय है.

आने वाले दिनों में महाराष्ट्र में चुनाव होंगे

सुशील कुमार शिंदे महाराष्ट्र के लिए जानेमाने दलित नेता हैं. आने वाले दिनों में  महाराष्ट्र में चुनाव  होने वाला है. साथ ही वे इस बार लोकसभा चुनाव हार गये थे. ऐसे में उनकी पूरी तैयारी विधानसभा चुनावों में उतरने की होगी. सुशील कुमार शिंदे ही वह शख्स हैं जो आने वाले विधानसभा चुनाव में एनसीपी और कांग्रेस के बीच पूल का काम करेंगे.  इससे पहले राहुल गांधी और सोनिया गांधी से अशोक गहलोत की मुलाकात के बाद यह तय हो पाया कि राहुल गांधी राजस्थान में कोई  रिस्क नहीं चाहते . अगर गहलोत सीएम पद छोड़ते हैं और सचिन पायलट के युवा हाथों में प्रदेश की कमान आती है तो कुछ विधायकों के टूटने का डर है. . इसलिए राहुल गांधी ने ऐसा करने से मना कर दिया है.
 
शिंदे को  लेकर आम धारणा है कि उन्होंने पार्टी के निर्देशों के ऊपर जाकर कभी अपनी महत्कांक्षाओं को हावी नहीं होने दिया. शिंदे इससे पहले उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रह चुके हैं, तब उन्हें भैरो सिंह शेखावत से चुनौती मिली थी. यही नहीं जब महाराष्ट्र में उनके और विलासराव देशमुख के बीच मुख्यमंत्री बनने की होड़ शुरू हुई तो पार्टी ने उन्हें आंध्र प्रदेश का राज्यपाल बना दिया, लेकिन उन्होंने एक शब्द बोले बगैर यह पद ले लिया  

Samford

इसे भी पढ़ें –  अरब सागर में चीन-पाक की गतिविधियों पर भारत की खुफिया एजेंसी रॉ की नजर

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: