न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूर्व जिला अभियंता शिव कुमार की कंपनी हाई 10 राज्य में कर रही है 200 करोड़ का काम

रामकृपाल कंस्ट्रक्शन कंपनी की चहेती कंपनी बन गयी है हाई 10

569

Ranchi : पूर्व जिला अभियंता शिव कुमार की कंपनी हाई 10 राजधानी रांची समेत राज्य के बोकारो, हजारीबाग, पलामू व अन्य जगहों में 200 करोड़ रुपये का काम कर रही है. यह कंपनी फिलहाल रामकृपाल कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड की चहेती कंपनियों में से एक है. हाल ही में हाई 10 को राजधानी के समाहरणालय परिसर के समीप 155 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बन रहे रविंद्र भवन का काम रामकृपाल कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा सबलेट किया गया है. इतना ही नहीं, हाई 10 की तरफ से न्यायिक अकादमी में फॉल्स सीलिंग और इंटीरियर का काम भी किया गया था. न्यायिक अकादमी में कंपनी को 30 करोड़ रुपये से अधिक की लागत का इंटीरियर का काम सबलेट में मिला था. झारखंड सरकार के भवन निर्माण निगम लिमिटेड की तरफ से हाई 10 को काम दे दिया गया था.

इसे भी पढ़ें- तलाक के अपने फैसले पर अडिग हैं तेज प्रताप, कहा- पिताजी के आने का करूंगा इंतजार

सरकार में काफी पहुंच है पूर्व जिला अभियंता की

पूर्व जिला अभियंता शिव कुमार की सरकार में काफी पहुंच है. हाई 10 कंपनी में इनके भाई और बहनोई निदेशक हैं. इनके एक भाई रांची नगर निगम में उपनगर आयुक्त के पद पर पदस्थापित हैं. नगर विकास मंत्री, ग्रामीण विकास मंत्री और आरईओ के मंत्री के साथ इनके काफी बेहतर संबंध हैं.

इसे भी पढ़ें- छह वर्षों में राजधानी के आठ से अधिक चौक-चौराहों का काम नहीं हुआ पूरा

जुडको ने निकाली थी रविंद्र भवन की निविदा

झारखंड शहरी आधारभूत संरचना विकास निगम लिमिटेड (जुडको) की तरफ से रविंद्र भवन की निविदा निकाली गयी थी. इसका समय दो बार बढ़ाया गया था और लागत भी 110 करोड़ से बढ़ाकर 155 करोड़ रुपये की गयी थी. दूसरी बार में रामकृपाल कंस्ट्रक्शन का चयन किया गया. रविंद्र भवन में 10 टन का मेटल का वृक्ष भी स्थापित किया जायेगा. यहां पर कनवेंशन सेंटर समेत अन्य सुविधाएं विकसित की जायेंगी.

इसे भी पढ़ें- भाजपा नेता ने उमा भारती से नमामि गंगे परियोजना में लूट की जांच एसआइटी से कराने की मांग की

न्यूज विंग ने प्रकाशित की थी खबर

न्यूज विंग ने एक अक्टूबर को बगैर जमीन के ही निकाल दिया 25 करोड़ का टेंडर से संबंधित खबर प्रकाशित की थी. इसमें हाई 10 कंपनी को जनवरी 2018 में झारखंड राज्य तकनीकी परीक्षा पर्षद का भवन बनाने का कार्यादेश दे दिया गया था. छह महीने बाद सरकार से इसके लिए जमीन की मांग की गयी थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: