न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झरिया में पेयजल संकट पर पूर्व जिला भाजपाध्यक्ष हरि प्रकाश लाटा ने FB पर लिखा सीएम के नाम खुला पत्र

117

Dhanbad : धनबाद में प्रशासन नाम की कोई चीज नहीं है. अधिकारी लोगों का फोन तक नहीं उठाते. मुख्यमंत्री रघुवर दास धनबाद के साथ उपेक्षापूर्ण रवैया अपना रहे हैं. इसलिए कि यहां के एक जनप्रतिनिधि को छोड़ सभी पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा के खेमे के हैं. धनबाद नगर निगम के मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल ही सिर्फ मुख्यमंत्री रघुवर दास के खेमे के हैं. धनबाद भाजपा के पूर्व अध्यक्ष जेपी मूवमेंट में सक्रिय भूमिका के लिए बिहार-झारखंड में अपनी विशिष्ठ पहचान रखनेवाले हरिप्रकाश लाटा ने भाजपा के एक कार्यकर्ता के रूप में facebook  पर झारखंड के मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र महापर्व छठ के प्रथम अर्घ्य के दिन लिखा. इसे रात 8:12 बजे तक 80 लोगों ने लाइक किया. 60 लोगों ने इस पर कमेंट किए, उसमें से प्रमुख का उल्लेख ऊपर किया गया है. इस पोस्ट को 8 लोगों ने शेयर किया.

इसे भी पढ़ेंः18 वर्षों में भी नहीं बन पायी नयी राजधानी, कल झारखंड मनायेगा अपनी स्थापना की 18वीं वर्षगांठ

लाटा के पत्र में क्या लिखा है

माननीय मुख्यमंत्री जी

झारखंड सरकार

बहुत ही दुख और पीड़ा के साथ यह खुला पत्र लिखने को मजबूर हूं. झरिया की जनता पिछले छह महीने से पानी के अभाव से त्रस्त हैं. पवित्र छठ पर्व पर भी यही स्थिति है. किसी तरह से लोग कुछ स्थानों पर व्यक्तिगत प्रयास से कुछ पानी की व्यवस्था कर छठ पर्व कर रहे हैं.

पता नहीं कितनी बड़ी खराबी आ गयी है कि जल वितरण व्यवस्था छह महीने से न तो माडा और न ही नगर निगम सुचारू कर पाया है. छठ पर्व तो सुबह अर्घ्य के साथ संपन्न हो जाएगा. आग्रह है कि लंबे समय से जल संकट झेल रही जनता को कष्ट से निजात दिलाने के लिए त्वरित कदम उठाएं. स्थानीय जन प्रतिनिधि भी आपको इस समस्या की जानकारी देते रहे हैं.

आपको छठ की हार्दिक शुभकामनाएं

आपका ही

हरिप्रकाश लाटा

भाजपा कार्यकर्ता

इसे भी पढ़ेंः18 साल में 18 घोटालों से राज्य की छवि दागदार, कई गये सलाखों के…

झरिया में जल संकट का विकराल रूप

यहां की साढ़े तीन लाख जनता पिछले छह माह से जल संकट झेलने को विवश हैं. नियमित जलापूर्ति नहीं होने की वजह से यहां के लोगों को रोजमर्रा के कार्यों में पहुत परेशानी झेलना पड़ रहा है. कभी झमाडा कर्मियों के बकाया राशि के भुगतान की मांग पर हड़ताल तो कभी जामाडोबा जलागार में मोटर की खराबी के कारण झरिया की जनता पानी को तरसती रही है. बरसात के दौरान मोटर पानी में डूब जाने के कारण 15 दिनों तक जलापूर्ति ठप रही. इसके बाद कुछ ही दिनों की जलापूर्ति के बाद फिर से पाइप मरम्मत के नाम पर जलापूर्ति रोक दी गयी थी.

इसे भी पढ़ेंःस्थापना दिवस पर आंदोलनकारियों ने गड़बड़ी की तो सख्ती से निपटेगी…

पानी की कमी ने त्योहारों का भी मजा किया किरकिरा

जलापूर्ति ठप रहने से पानी की कमी ने त्योहार का मजा किरकिरा करने में भी कोई कमी नहीं छोड़ी. दीपावली के पहले भी पाइप मरम्मत के नाम पर चार दिनों तक जलापूर्ति बंद रही, जिससे सफाई कार्य में लोगों को पानी के लिए इधर-उधर भटकना पड़ा. जब महापर्व छठ था और है कठिन नियमों के साथ-साथ शुद्धता जरूरी थी, तब भी इसके ठीक पहले ही दो दिन तक जलापूर्ति नहीं हुई. जिससे लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा.

इसे भी पढ़ेंःस्थापना दिवस की तैयारियां पूरीः क्या, कब और कौन से होंगे कार्यक्रम, पढ़ें पूरी खबर

जनता के सड़क पर उतरने के बावजूद स्थिति में नहीं हुआ कोई सुधार !

झरिया की जनता कई बार बर्तन और डब्बा लेकर सड़क पर जलापूर्ति कि व्यवस्था को सुधारने को लेकर प्रदर्शन भी कर चुकी है. महिलाएं तक सड़क पर उतर चुकी हैं. यहां तक कि कई नेतागण भी कई बार पानी की व्यवस्था सुधारने को लेकर हो हल्ला मचा चुके हैं. फिर भी स्थिति जस की तस बनी हुई है.

इसे भी पढ़ेंःरोज कटेगी 8 घंटे बिजली, डीवीसी का बकाया 3527.80 करोड़

आधी रात को ही कर दी जाती है जलापूर्ति

पानी नियमित रूप से नहीं मिलने से तो जनता त्रस्त है ही, ऊपर से कभी नल खुलता भी है तो इसका कोई समय नहीं है. झरिया के कई इलाक़ों में रात को 1 बजे तो कभी 2 या 3 बजे ही जलापूर्ति कर दी जाती. जबकि सुबह 5-6 बजते ही नल बंद हो जाता है. इस कारण लोगों को आधी रात को ही जागना पड़ता है. इसके अलावा किसी इलाके में कहीं शाम में तो कभी दोपहर में ही जलापूर्ति कर दी जाती है. जिससे लोगों को सब काम छोड़कर पानी आने का इंतजार करना पड़ता है.

इसे भी पढ़ेंःसबसे बड़ी इस्पात निर्माता कंपनी बनेगी टाटा स्टील, 2025 तक बढ़ायेगी 30 मिलियन टन उत्पादन

पानी भरने के लिये रोजाना होता रहता है झगड़ा

पानी की इतनी किल्लत है कि जब नल खुलता है तो पानी भरने वालों की नल पर लंबी लाइन लग जाती है. नलों पर डब्बे और बर्तन की भरमार लगी होती है. इसके बाद पानी भरने की होड़ में लोग अक्सर तू, तू-मैं, मैं करने लगते हैं. कई बार झगड़े भी होते हैं.

इसे भी पढ़ेंःमाओवादियों का तांडवः सड़क निर्माण में लगी मशीनों और वाहनों को फूंका

कुएं के आसपास उमड़े लोग

छठ के दिन भी झरिया में जलापूर्ति नहीं हुई है, जिससे छठ करने वालो को नहाने- प्रसाद बनाने के लिए पानी नहीं मिल पाया. इसके कारण लोगों को पानी के लिए इधर-उधर मशक्कत करनी पड़ी. झरिया कतरास मोड़ स्थित कुआं के पास भी डब्बा- डेकची लेकर आसपास के लोगों की पानी के लिये काफी भीड़ लग हुई थी. दूर- दूर से लोग साइकिल लेकर आये थे और पानी के लिए लंबी कतार लगाये हुए थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: