BusinessNational

आईसीआईसीआई की पूर्व सीईओ चंदा कोचर के परिवार को 500 करोड़ की घूस मिली :  ईडी

NewDelhi :  आईसीआईसीआई की पूर्व सीईओ चंदा कोचर और उनके परिवार को लोन ऑफर्स के बदले में 500 करोड़ की घूस मिली. बिजनेस स्टैंडर्ड के अनुसार ईडी ने इस बात की पुष्टि की है. खबर है कि अब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) जल्दी ही रिश्वत से खरीदी गयी सारी संपत्ति को सीज करने जा रहा है. बता दें कि आईसीआईसीआई-वीडियोकॉन मनी लॉन्ड्रिंग मामले में  जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय ने आईसीआईसीआई की पूर्व सीईओ चंदा कोचर की मुश्किलें बढ़ा दी हैं.   बिजनेस स्टैंडर्ड के अनुसार ईडी ने इस बात की पुष्टि की है कि चंदा कोचर और उनके परिवार को लोन ऑफर्स के बदले में 500 करोड़ घूस दी गयी. जानकरी के अनुसार 3250 करोड़ के लोन के मामले में ईडी ने चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत से पिछले सप्ताह तीन दिनों तक पूछताछ की. सूत्रों के अनुसार ईडी अब उन कंपनियों की लिस्ट जुटा रहा है जिन्हें चंदा कोचर के कार्यकाल के दौरान लोन का ऑफर मिला था.  आरोप है कि विडियोकॉन ने आईसीआईसीआई बैंक से मिले 3250 करोड़ के लोन में से 64 करोड़ रुपये चन्दा कोचर के पति दीपक कोचर की कंपनी नु पॉवर में लगाये थे. ईडी अब दोनों कंपनियों और दीपक कोचर की कंपनी के बीच मनी ट्रेल की जांच कर रही है.

इसे भी पढ़ेंः सरकार ने सालाना जीएसटी रिटर्न भरने के लिए ऑनलाइन फैसिलिटी ऐक्टिवेट की

आईसीआईसीआई ने  धूत की कंपनी को 1575 करोड़ का लोन दिया

Catalyst IAS
ram janam hospital

ईडी के अनुसार दीपक कोचर की नु पॉवर को 2010 में 64 करोड़ रुपए वेणुगोपाल धूत की एक शेल कंपनी जरिए मिले , जिसके एवज में आईसीआईसीआई ने 2009 और 2011 के दौरान धूत की कंपनी को 1575 करोड़ का लोन मिला.  इसके बाद 2010 में नुनिशांत कनोडिया की मॉरिशस की कंपनी फर्स्ट लैंड ने भी नु पॉवर में 325 करोड़ रुपये निवेश किये. बता दें कि  निशांत कनोडिया एस्सार ग्रुप के प्रमोटर रवि रुईया के दामाद हैं. इस क्रम में  एस्सार ग्रुप को भी आईसीआईसीआई ने कर्ज दिया. जो अब एनपीए हो चुका है.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

 ईडी सूत्रों के अनुसार  मुंबई में चंदा कोचर के कम से कम पांच दफ्तरों, घरों और कुछ अन्य जगहों पर तलाशी ली गयी.  चंदा कोचर, दीपक कोचर और वेणुगोपाल धूत के अलावा ईडी ने धूत के करीबी महेश पुगाली से भी पूछताछ की.  बता दें कि ईडी सीबीआई  द्वारा जनवरी में 3250 करोड़ के लोन के मामले में चंदा कोचर के खिलाफ दर्ज एफआईआर के मामले में जांच कर रहा है. 

इसे भी पढ़ेंः राहुल ने कहा- राफेल की फाइलें गायब हो गयी हैं,  30 हजार करोड़ के घोटाले में मोदी को बचाने की कोशिश

 

Related Articles

Back to top button