न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पर्थ टेस्ट के बाद बोले पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान पोंटिंगः भारतीय बल्लेबाजी ज्यादा कमजोर

962

Perth: आस्ट्रेलिया-इंडिया टेस्ट क्रिकेट सीरीज के दूसरे मैच में भारत जीत का सिलसिला बरकारार नहीं रख सका. और कंगारुओं ने 146 रनों से मात दे दी. अब ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने दूसरे टेस्ट में भारत की की हार के बाद कहा कि भारतीय बल्लेबाजी की परेशानी आस्ट्रेलियाई टीम से अधिक हैं. पोटिंग ने एक खेल वेबसाइट से बात करते हुए कहा, ‘‘मैंने श्रृंखला की शुरुआत में दोनों टीमों की तुलना की थी और मुझे नहीं लगता कि भारत यहां जीत सकता है. ऐसा सिर्फ उसकी बल्लेबाजी की कमजोरियों के कारण है, जो इस हफ्ते उजागर हुईं.’’

भारत को पहला झटका पृथ्वी साव के चोटिल होने से लगा तो पूरी टेस्ट श्रृंखला से बाहर हो गए. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया एकादश के खिलाफ अभ्यास मैच के दौरान इस युवा बल्लेबाज को बायें टखने में चोट लगी थी. बल्लेबाज रोहित शर्मा और आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन भी चोटिल होने के कारण पर्थ टेस्ट से बाहर हो गए. भारत ने अपनी बल्लेबाजी को मजबूत करने के लिए सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल और आलराउंडर हार्दिक पंड्या को टीम में शामिल किया है.

पोंटिंग ने कहा, ‘उन्हें एक और सलामी बल्लेबाज बुलाना पड़ा, उन्होंने एक और ऑलराउंडर को बुलाकर अपने मध्यक्रम को मजबूत करने का प्रयास किया है. उनके पास उतनी ही क्षमता है जितनी आस्ट्रेलियाई लड़कों के पास. उनकी टीम में काफी अनिश्चितताएं हैं.’ पोंटिंग ने ऑस्ट्रेलिया को सलाह दी कि वे जीत की लय को मेलबर्न में तीसरे टेस्ट में लेकर जाएं. साथ ही कहा कि, टीम ऑस्ट्रेलिया इस हफ्ते जिस तरह खेली उससे उन्होंने एक खाका तैयार किया कि आखिर भारत को कैसे हराया जा सकता है. उन्हें अब इसे आगे बढ़ाना होगा.

पोंटिंग ने कहा, ‘‘इसमें कोई संदेह नहीं कि एक जीत के साथ आत्मविश्वास आएगा, लेकिन वे मेलबर्न में यह उम्मीद नहीं कर सकते कि भारत उसी तरह खेलेगा जैसा कि यहां खेला.’’ पोटिंग ने हालांकि ऑस्ट्रेलिया को चेताया कि बाकी बचे दो स्थल भारत के अधिक अनुकूल होंगे. उन्होंने कहा, ‘अगर आप एमसीजी और एससीजी के बारे में सोचो तो वहां के हालात एडीलेड और पर्थ की तुलना में भारतीयों को अधिक रास आएंगे.’

इसे भी पढ़ेंः पर्थ टेस्टः ऑस्ट्रेलिया ने 146 रनों से इंडिया को दी मात, 1-1 से सीरीज बराबर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: