न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वन विभाग के अफसर निशानेबाजी में होंगे पारंगत, प्रैक्टिस के लिए चाहिये टेलीस्कोप वाली एयर रायफल

दो ड्रॉट ट्रांक्वालाइजर गन के लिये भी निकाला टेंडर, जंगली जानवरों से है खतरा, पहले एके-47 खरीदने का भी बना था प्रस्ताव, नहीं मिली थी मंजूरी

331

Ranchi: वन विभाग के अफसरों का निशाना कमजोर होता जा रहा है. अब वे निशाना साधने की प्रैक्टिस करेंगे. इसके लिये उन्हें टेलीस्कोप वाली रायफल चाहिये. साथ ही अफसरों को और दो ड्रॉट ट्रैंक्विलाइज़र गन (बंदूक) की भी जरूरत है. इसकी खरीदारी के लिये वन विभाग ने टेंडर निकाला है. टेंडर पांच मार्च को अपराह्न तीन बजे खुलेगा. वजह यह है कि ट्रांक्विलाइजर गन चलाने से पहले एयर रायफल से निशाना साधने की प्रैक्टिस की जायेगी. ताकि जंगली जानवरों पर निशाना सटीक लगे.

निकाले गये टेंडर की कॉपी

क्या है ड्रॉट ट्रैंक्विलाइज़र गन

यह जानवरों को बेहाश करने वाली बंदूक है. इसमें ड्रॉट एक सीरिंज की तरह होता है. इसमें बेहोशी की दवा भर कर जंगली जानवरों पर निशाना साधा जाता है. निशाना लगाते ही खतरनाक जंगली जानवर बेहोश हो जाते हैं. लेकिन इस जंगली जानवरों पर सटीक निशाना साधने से पहले अफसर, रेंजर और वनपाल निशाना साधने की प्रैक्टिस करेंगे. ताकि खतरनाक जंगली जानवरों से निपटा जा सके. एक ड्रॉट ट्रांक्विलाइजर गन की कीमत लगभग चार लाख रुपये तक है.

पहले एक-47 खरीदने का था प्रस्ताव

इससे पहले वन विभाग ने एके-47 और रायफल खरीदने की योजना बनाई थी. इसके लिये वन विभाग ने मद्रास ऑडेनेंश ( हथियार बनाने वाली भारत सरकार की फैक्ट्री) के पास राशि जमा की थी. इसके बाद मद्रास ऑडेनेंश ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को इसकी जानकारी दी. गृह मंत्रालय ने वन विभाग से इस पर अनापत्ति प्रमाण पत्र मांगा. लेकिन वन विभाग ने अब तक इसका जवाब नहीं दिया.

क्या थी एके 47 नहीं मिलने की वजह

Related Posts

रांची नगर निगम सफाई के लिए फिर लेगा आउटसोर्सिंग कंपनी का सहारा, पार्षद बोले – चरमरायेगी सफाई व्यवस्था

एस्सेल इंफ्रा को हटाने के बाद नयी कंपनी के लिए मांगी गयाी है ई-टेंडर 

SMILE

राज्य के वन विभाग ने हथियार रखने के लिये अब तक नियमावली नहीं बनायी है. नियमावली नहीं बनने की वजह से पद का सृजन भी नहीं हुआ. वहीं लाइसेंस के लिये प्रशिक्षण भी अनिवार्य है. यही वजह है कि लाइसेंस भी नहीं मिल पाया. दूसरी ओर फॉरेस्ट एक्ट में हथियार रखने का प्रावधान नहीं है. इसके लिये भी अलग से नियमावली की जरूरत है.

क्या खासियत होगी ड्रॉट ट्रैंक्विलाइज़र गन की

वजन: 3.5 किलोग्राम
बैरल के साथ लंबाई: 100 से 115 सेंटीमीटर
रेंज: 130 मीटर
वोल्यूम: 1 सीसी से 20 सीसी
एनर्जी: कायनेटिक एनर्जी टेलीस्कोप के साथ

एयर रायफल की खासियत

वजन: 1 किलोग्राम से 1.1 किलोग्राम
बैरल की लंबाई: 400 से 450 मिलीमीटर
कैलिवर: 4 एमएम/ 0.160 से 4.5 एमएम/0.171
कुल लंबाई: 1050 मिलीमीटर से 1065 मिलीमीटर

इसे भी पढ़ेंः खूंटी: रनिया पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, एक नक्सली ढेर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: