न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

साल में दूसरी बार दिल्ली में हवा की गुणवत्ता हुई अच्छी : सीपीसीबी

वायु गुणवत्ता सूचकांक 48 दर्ज किया गया है.

118

Delhi : दिल्ली में  इस साल दूसरी बार शनिवार को दिल्ली में हवा की गुणवत्ता अच्छी हो गयी. मानसून के सक्रिय रहने से हवा से प्रदूषणकारी तत्व धुल गए. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़े के मुताबिक नयी दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 48 दर्ज किया गया है. सूचकांक में यह अंक अच्छी श्रेणी में आता है.

इसे भी पढ़ें : सीवरेज-ड्रेनेज (जोन-1) : प्रोजेक्ट की लंबाई पर संवेदक और निगम के बीच असमंजस

प्रदूषणकारी तत्वों के बह जाने से वायु की गुणवत्ता में सुधार

सीपीसीबी के एक अधिकारी ने बताया कि लगातार बारिश के कारण हवा में मौजूद प्रदूषणकारी तत्वों के बह जाने से वायु की गुणवत्ता में सुधार हुआ है.

पीएम 10 का स्तर दिल्ली-एनसीआर और दिल्ली में 46 दर्ज किया गया है. इस मामले में भी हवा की गुणवत्ता अच्छी है. सीपीसीबी के आंकड़े के मुताबिक शुक्रवार को सूक्ष्म कण पीएम 2.5 का सूचकांक दिल्ली एनसीआर में 23, दिल्ली में 22 दर्ज किया गया है.

इसे भी पढे़ें : 10 साल की लड़की की कहानी वाली फिल्म विलेज रॉकस्टार्स भारत से जाएगी ऑस्कर्स

इससे पहले जुलाई में ठीक हुई थी हवा

इससे पहले दिल्ली में इस साल पहली बार वायु की गुणवत्ता जुलाई में अच्छी हुई थी. लगातार हो रही बारिश के कारण हवा में उपस्थित प्रदूषक कण समाप्त हो गए थे. उस वक्त अधिकारियों ने जानकारी दी थी की केंद्र सरकार की एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट (सफर) के वैज्ञानिक गुफरान बेग के अनुसार नयी दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 43 पर दर्ज किया गया था.

आपकी जानकारी के लिए बता दें की शून्य से 50 के बीच के एक्यूआई को अच्छा, 51 से 100 को संतोषजनक माना जाता है. 101 से 200 को मध्यम, 201-300 को खराब माना गया है. 301-400 को बहुत खराब और 401 से 500 को गंभीर की श्रेणी में रखा जाता है. पीएम 10 स्तर (10 मिलीमीटर से कम व्यास वाले कणों की मौजूदगी) राजधानी के आस-पास के क्षेत्र में 39 और दिल्ली में 32 के साथ अच्छा दर्ज किया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: