न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बजट के दिन पहली बार सत्ता पक्ष के विधायक ढुल्लू महतो को अध्यक्ष ने किया सदन से बाहर

ढुल्लू महतो ने सीसीएल और बीसीसीएल एरिया के उन रौयतों का सवाल उठाया

578

Ranchi :  झारखंड विधानसभा में ऐसा पहली बार देखा गया कि बजट के दिन किसी सत्ता पक्ष के विधायक को सदन से मार्शल आउट की सजा विधानसभा अध्यक्ष ने दी. सदन की कार्यवाही 11.02 मिनट पर शुरू हुई. प्रश्नकाल के दौरान अध्यक्ष दिनेश उरांव ने ढुल्लू महतो को सरकार से सवाल करने के लिए उठाया. ढुल्लू महतो ने सीसीएल और बीसीसीएल एरिया के उन रौयतों का सवाल उठाया. जिन्होंने उत्खनन करने के लिए अपनी जमीन तो दे दी, लेकिन उन्हें ना तो मुआवजा मिला है और ना ही नियोजन.

सवाल के दौरान उन्होंने कुछ पीड़ितों के नाम भी बताए. अध्यक्ष ने सवाल का जवाब देने का आग्रह भू-राजस्व मंत्री अमर बाउरी को कहा.  बाउरी ने कहा कि कोल इंडिया के संबंधित अधिकारियों से उन्होंने बात की है. उनका कहना है कि सीबी एक्ट के मुताबिक हर रैयत को मुआवजा और नियोजन दे दिया गया है. कहा कि 1 सितंबर 2015 के बाद जिन्हें भी मुआवजा दिया जा रहा है, उन्हें चार गुणा मुआवजा और नियोजन दी जी रही है.

अध्यक्ष ने बैठने को कहा फिर भी अड़े रहे ढुल्लू

hosp3

सदन में इस बात को लेकर धनबाद के विधायक राज सिन्हा भी खड़े हो गए. उन्होंने भी मामले को जोर-शोर से उठाने की कोशिश की. लेकिन समय का हवाला देते हुए अध्यक्ष ने दोनों को बैठने को कहा गया. ढुल्लू महतो ने कहा कि मेरी भी जमीन गयी है, लेकिन मुझे कहां नौकरी मिली. कहा कि मैं अगर इस मुद्दे को लेकर आंदोलन करूंगा तो विपक्ष कहेगा कि मैं रंगदारी कर रहा हूं. विभाग के मंत्री ने ढुल्लू महतो को एक लिस्ट देने की बात कही. जिसमें वैसे रैयतों का नाम है जिनकी जमीन तो गयी है, लेकिन नियोजन नहीं मिला हो. अध्यक्ष ने ढुल्लू महतो को लिस्ट देने की बात कही और सदन की कार्यवाही को आगे बढ़ाने की कोशिश की.

लेकिन अध्यक्ष के बार-बार कहने पर भी ढुल्लू महतो अपनी बात रखते रहे. विधायक के बात नहीं मानने पर अध्यक्ष अपनी आसन से खड़े हो गए और डांट कर ढुल्लू महतो को बैठ जाने को कहा. इतने पर भी ढुल्लू नहीं माने. आखिरकार ढुल्लु महतो को अध्यक्ष ने सदन से बाहर जाने का आदेश दिया. मार्शलों को आदेश दिया कि विधायक को सदन से बाहर कर दें. अध्यक्ष ने कहा कि विधायक को एक दिन के लिए निलंबित कर दिया जाए. बाहर जाते हुए भी ढुल्लू महतो शांत नहीं हुए. वो बड़बड़ाते हुए बाहर निकले.

पूरी बात नहीं सुनी और कहने लगे बैठ जा-बैठ जा, मैं यहां बैठने नहीं आया हूं : ढुल्लू महतो

सदन से निलंबन की सजा के बाद बाघमारा के बीजेपी विधायक ढुल्लू महतो ने मीडिया के सामने अपनी भड़ास निकाली. उन्होंने कहा कि कोल फील्ड एरिया में ऐसे कई लोग हैं जिनकी जमीन कोल इंडिया ने ले ली है. उन लोगों के सामने भुखमरी जैसी स्थिति है. इसी संबंध में मैंने 18 जनवरी को एक सावल सदन में किया था. उस दिन बात पूरी नहीं हुई थी, उसके बाद आज फिर से मेरे बात शुरू हुई. आज जब मैंने बात रखनी रखनी शुरू की तो पूरी बात ना सुनते हुए मुझे बैठ जा-बैठ जा कहने लगे. मैं जनता का प्रतिनिधि हूं. मैं यहां बैठने के लिए नहीं आया हूं. मैं यहां जनता का सवाल रखने आया हूं. मैं जनता की बात रखने के लिए आया हूं. जितना दिन बाहर करना है कर दें, मैं डरने वाला नहीं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: