JharkhandLead NewsRanchi

यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा के लिए सड़कों का होगा हाई रेजुलेशन कैमरे से सर्वे

कुड़ु-घाघरा रोड से होगी शुरुआत

Ranchi : सड़क यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा के लिए सड़कों का हाई रेजुलेशन कैमरे से सर्वे किया जायेगा. कुड़ु-घाघरा रोड से इसकी शुरुआत होगी. इसे बनाने के पहले नेटवर्क सर्वे व्हीकल्स (एनएसवी) कराया जायेगा. पथ निर्माण विभाग के अभियंता प्रमुख मुरारी भगत ने मिनस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवे की गाइडलाइन के अनुसार इस सड़क निर्माण के पहले एनएसवी सर्वे कराने का निर्देश चीफ इंजीनियर एनएच को दिया है.

नेशनल हाइवे-143 ए के तहत (कुड़ु-लोहरदगा से गुमला को जोड़ने वाली) इस सड़क निर्माण के लिए टेंडर प्रक्रिया पूरी करके संवेदक के साथ 22 जुलाई को ही एकरारनामा कर दिया गया है.

इसे भी पढ़ें:Jharkhand : भाजपाइयों पर लाठीचार्ज की केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने की आलोचना, कहा- शर्मनाक, तुष्टिकरण से बचे सरकार

सड़क को 125 करोड़ की लागत से बनाया जाना है. इस सड़क को किमी 0.00 से किमी 44.00 तक इपीसी मोड में बनाया जायेगा. राष्ट्रीय उच्च पथ विंग, झारखंड ने इस सड़क को दो लेन चौड़ा, पेब्ड सोल्डर के साथ बनाने की योजना बनायी है.

ब्रिज-कल्वर्ट का भी निर्माण किया जाना है. 24 माह में इसका काम पूरा करने का लक्ष्य है. लेकिन पथ निर्माण विभाग के अभियंता प्रमुख ने कार्य प्रारंभ करने के पहले इसका सर्वे कराने का आदेश दिया है. ऐसे में अब नये सिरे से सर्वे और इसकी रिपोर्ट के आधार पर ही काम प्रारंभ होगा.

इसे भी पढ़ें:भाजपा ने विधानसभा भवन में नमाज कक्ष आवंटन की वैधानिकता पर उठाया सवाल, कहा-फैसला वापस ले सरकार

सड़कों की गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए सर्वे, हाई रेजोल्यूशन कैमरा का उपयोग

नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने सड़क यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा के दृष्टिगत सड़कों की गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए नेटवर्क सर्वे व्हीकल का उपयोग करना अनिवार्य बना दिया है. एनएसवी राजमार्गों की तस्वीर खींचने के लिए हाई रेजोल्यूशन कैमरा का उपयोग करेगा. इसमें और भी कई फीचर्स होंगे.

इंजीनियरों ने बताया कि यात्रियों को बेहतर सड़क उपलब्ध कराने की अपनी प्रतिबद्धता के कारण राजमार्गों की गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए नेटवर्क सर्वे व्हीकल्स का उपयोग करने का निर्णय लिया है.

इसे भी पढ़ें:फारूक के बाद अब महबूबा मुफ्ती का दिखा तालिबान प्रेम, कहा- तालिबान एक हकीकत है

परियोजना को पूर्णता प्रमाण पत्र देने के समय एनएच पर एनएसवी का उपयोग कर रोड कंडीशन सर्वे को किया जाना है. इसके बाद प्रत्येक छह माह के अंतराल पर भी सड़क सर्वे कराया जायेगा.

एनएसवी सर्वे के जरिये संग्रह किये गये आंकड़ों को एनएचआइ के एआइ आधारित पोर्टल डाटा लेक पर अपलोड किया जायेगा, जहां रोड असेट मैनेजमेंट सेल द्वारा इसका विश्लेषण किया जायेगा और उसके अनुसार रखरखाव का कार्य प्राथमिकता से किया जायेगा.

इससे राष्ट्रीय राजमार्गों को बेहतर रखने और राजमार्ग यूजर्स को आरादायक एवं बेहतर यात्रा अनुभव प्रदान करने में मदद मिलेगी.

इसे भी पढ़ें:लाठीचार्ज के दौरान बीजेपी के 12 नेताओं को लगी गंभीर चोट, रिम्स में भर्ती

Advt

Related Articles

Back to top button