ChaibasaCrime NewsJamshedpurJharkhand

Chakradharpur : 1.50 लाख में सतीश ने जाहिद को दी थी कमलदेव की हत्या की सुपारी, पुलिस ने चार लोगों को किया गिरफ्तार, तीन पिस्टल और गोली समेत अन्य सामान बरामद, थानेदार की रही अहम भूमिका

Chakradharpur : चक्रधरपुर के चर्चित कमलदेव गिरि हत्याकांड के मुख्य साजिशकर्ता सतीश प्रधान समेत तीन की गिरफ्तारी के बाद आखिरकार पुलिस ने हत्यारे जाहिद को भी गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने जाहिद के अलावा तीन अन्य को भी गिरफ्तार किया जिसमे चांदमारी निवासी मो राकिब, मंडलसाई निवासी मो साकिर और चौंगासाई निवासी मो हाशिम शामिल है. पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही में तीन पिस्टल, पांच जिंदा गोली और घटना में प्रयुक्त स्कूटी और बाइक भी बरामद की है. इस मामले को सुलझाने में चक्रधरपुर थाना प्रभारी चंद्रशेखर कुमार की अहम भूमिका रही. पूछताछ में जाहिद ने बताया कि सतीश से उसकी दोस्ती काफी पुरानी है. एक दिन खुद सतीश ने कमलदेव की हत्या करने को कहा. सतीश ने उसे कमलदेव की हत्या के लिए 1.50 लाख रुपए में सुपारी दी थी. घटना तक उसे 70 हजार रूपए भी मिल चुके थे. इस दौरान उसने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर कमलदेव की हत्या का प्लान बनाया. उसने अपने घर में बम बनाया. 12 नवंबर की देर शाम मौका पाकर उसने राकिब के साथ मिलकर कमलदेव पर बम से हमला कर उसकी हत्या कर दी और वहां से फरार हो गया.

चक्रधरपुर थाना प्रभारी कि रही अहम भूमिका
घटना के बाद पुलिस ने टेक्निकल टीम और बम स्क्वाड का सहारा लेकर छानबीन शुरू की. इसी बीच सर्किल इंस्पेक्टर चंद्रशेखर कुमार के पुराने रिकॉर्ड को देखते हुए चक्रधरपुर का थाना प्रभारी बनाया गया. चंद्रशेखर कुमार ने भी अपने अनुभव का इस्तेमाल करते हुए हत्यारों को ढूंढ निकाला. चंद्रशेखर कुमार ने पूर्वी सिंहभूम के उलीडीह थाना प्रभारी रहते हुए सुमन रक्षित हत्याकांड का खुलासा करते हुए हत्यारे ऋषभ श्रीवास्तव को गिरफ्तार कर एक साल में ही उसे सजा दिवाई थी. इसके अलावा बहरागोड़ा थाना प्रभारी रहते हुए उन्होंने दोहरे हत्याकांड को 72 घंटे में ही सुलझाया था.
एसआईटी में ये थे शामिल
एसडीपीओ कपिल चौधरी, एएसपी सुमित अग्रवाल, दिलीप खलखो, चंद्रशेखर कुमार, एसआई विवेक पाल, एसआई विश्वनाथ किस्कू, एसआई सौरभ ठाकुर, एएसआई संजय कुमार सिंह, एएसआई करुणाकर तिवारी के अलावा चाईबासा टेक्निकल सेल.

Related Articles

Back to top button