न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गुमला के घाघरा में फूड प्वाइजनिंग का कहर, 40 से ज्यादा बच्चे बीमार, 12 की हालत गंभीर

आलू-बैंगन की सब्जी और चावल खाने से बीमार हुए छात्र

519

Ghaghra: गुमला के घाघरा में दूषित भोजन खाने से हाई स्कूल मैदान के बगल में स्टूडेंट हॉस्टल के चालीस से अधिक बच्चे फूड प्वाइजनिंग शिकार हो गए. हॉस्टल के संचालक नवीन साहू ने सभी बीमार बच्चों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया. जहां प्राथमिक इलाज के बाद 14 बच्चों की गम्भीर स्थिति को देखते हुए गुमला सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया.

इसे भी पढ़ें-खूंटी : ग्रामीणों को ईसाई धर्म छोड़ने की मिल रही धमकी, डीसी-एसपी से सुरक्षा की लगायी गुहार

छात्रों को दी गई थी चावल और आलू-बैंगन की सब्जी

बीमार बच्चों ने बताया कि शुक्रवार की रात उन्हें होस्टल में चावल व बैगन आलू का सब्जी परोसा गया था. जिसे खाने के बाद वे अपने अपने कमरे में सोने चले गए. आधी रात के करीब 1 बजे सभी की तबीयत बिगड़ने लगी. छात्र-छात्राओं को उल्टी-दस्त व तेज बुखार होने लगा. इसके बाद वे इसकी सूचना वार्डन अरुणा व सुशांति को दी. मगर दोनों मामले को गंभीरता से नहीं लिया. रात भर विद्यार्थी उल्टी-दस्त व बुखार से तड़पते रहे. सुबह होने पर छात्रों ने इसकी शिकायत होस्टल संचालक नवीन कुमार साहू से की. गंभीर विद्यार्थियों में अधिकांश लोग सर्वेश्वरी बाल मंदिर के छात्र हैं.

सब्जी से हुई है फूड प्वाइजनिंग- डॉक्टर

डॉक्टर अरुण कुमार ने बताया कि

फूड प्वाइजनिंग सब्जी से बच्चों के बीमार होने की आशंका है. संभवतः सब्जी में केमिकल लगा था जिसे अच्छे से साफ नहीं किया गया. जिन दो-तीन बच्चों ने सब्जी नहीं खाई, उनकी तबीयत ठीक है. बाकी सभी जिन्होंने सब्जी खाई थी, सबकी तबीयत खराब है. इससे लगता है कि फूड प्वाइजनिंग के पीछे सब्जी कारण रहा होगा.

रात भर मामले को लबाने में जुटे रहे हॉस्टल के संचालक

छात्रों के परिजनों का आरोप है कि मामले की जानकारी मिलते ही संचालक नवीन आनन-फानन में किसी प्राइवेट डॉक्टर को बुलाकर हॉस्टल लाये. डॉक्टर द्वारा बच्चों का इलाज कराया गया. इसके बाद बच्चों के बीच फिर नाश्ते के तौर पर चावल व टोस्ट परोसा गया. नाश्ता टोस्ट खाने के बाद बच्चे अपने-अपने कमरे में आराम करने चले गए. तभी दोपहर करीब 11 बजे बच्चों की स्थिति और बिगड़ गई. बच्चे छटपटाने लगे तब होस्टल संचालक उन्हे अस्पताल ले गये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: