न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजभवन के निर्देशों का पालन हर हाल में यूनिवर्सिटी करें, नहीं बरतें लापरवाही: राज्यपाल

227
  • सत्र का नियमितीकरण हो, सही समय पर परीक्षा हो और रिजल्ट भी समय पर प्रकाशित हो
  • सभी यूनिवर्सिटी महालेखाकार कार्यालय से शीघ्र करायें ऑडिट

Ranchi: राज्यपाल सह कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू ने निर्देश दिया है कि सभी यूनिवर्सिटी राजभवन के निर्देशों का अनुपालन हर हाल में करें. छात्र हित सर्वोपरि है. ऐसे में यूनिवर्सिटी किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं बरतें. राज्यपाल ने सोमवार को राजभवन में यूनिवर्सिटी के कुलपतियों के साथ समीक्षा बैठक की. समीक्षा बैठक में कहा कि पेंशन और सेवानिवृत्ति संबंधी लाभों का अविलंब भुगतान करें. इस मामले में शिकायत नहीं आनी चाहिए. अनुकंपा पर आश्रितों की नियुक्ति संबंधी मामले का भी जल्द निबटारा किया जाये.

तीन यूनिवर्सिटी में जो जहां हैं वहीं रहेंगे

राँची एवं डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय, विनोबा भावे विश्वविद्यालय एवं विनोद बिहारी महतो कोयलाचंल विश्वविद्यालय के कैडर विभाजन पर चर्चा की गई. इसमें कहा गया कि फिलहाल अभी जो जहां हैं, वहीं रहेंगे. स्वपोषित पाठ्यक्रम के शुल्क में एकरूपता करने के लिए समीक्षोपरांत विचार करने का निर्णय लिया गया. बैठक में  रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रम पर चर्चा की गयी. राज्य के बैकलॉग में रहे 566 प्राध्यापकों की रिक्तियां भरने के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय में याचिका दायर किये जाने का निर्णय लिया गया.

चांसलर ब्लड डोनर लिस्ट जारी

समीक्षा बैठक के बाद राजभवन की वेबसाइट पर चांसलर ब्लड डोनर लिस्ट जारी किया गया. निर्देश दिया गया कि  सभी जिले के सिविल सर्जन एवं विभिन्न अस्पतालों को भी यह सूचना दे दी जाये. राज्यपाल ने कैंसर हेल्पलाइन की दिशा में पहल करने के लिए प्रतिकुलपति की सराहना की. बैठक में राज्यपाल के प्रधान सचिव सतेन्द्र सिंह, उच्च एवं तकनीकी शिक्षा सचिव राजेश कुमार शर्मा, सचिव, भवन निर्माण विभाग सुनील कुमार सहित सभी विवि के कुलपति सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे.

राज्यपाल ने दिये निर्देश

  • गैर शैक्षणिक कर्मियों को एसीपी और एमएसीपी का लाभ देने के लिए सभी विश्वविद्यालय को अनुमानित राशि का आकलन कर उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग को समर्पित किया जाये.
  • विश्वविद्यालय शिक्षकों की प्रोन्नति के लिए जेपीएससी को निर्देश.
  • जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा विभाग में सम्प्रति 4 पृथक विभाग संचालित करने को लेकर निर्देश.
  • सभी विश्वविद्यालय अपने यहां का वित्तीय अंकेक्षण का कार्य शीघ्र महालेखाकार कार्यालय से करायें.
  • मॉडल कॉलेज, महिला महाविद्यालय, बहुद्देशीय परीक्षा भवन, डिग्री महाविद्यालय, नये विश्वविद्यालय सहित छात्रहित से जुड़े विभिन्न भवनों के निर्माण की समीक्षा की गई.

इसे भी पढ़ें – मैट्रिक-इंटर की परीक्षा 20 फरवरी से, स्कूलों की तैयारी पूरी, कुल 7.55 लाख विद्यार्थी होंगे शामिल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: