BiharRanchiTOP SLIDER

चारा घोटाला : चाईबासा ट्रेजरी केस में लालू प्रसाद को मिली बेल, पर अभी  काटनी पड़ेगी जेल

लालू प्रसाद यादव को शुक्रवार को झारखंड हाईकोर्ट से बेल तो मिल गयी, लेकिन अभी वे जेल से बाहर नहीं आ पायेंगे, न ही चुनाव प्रचार कर पायेंगे

  • दो लाख रुपये के फाइन और 50 हजार रुपये के दो निजी मुचलके हाई कोर्ट ने दी है जमानत
  • चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में पांच साल कैद की सुनायी गयी थी सजा
  • फिलहाल रिम्स में हैं इलाजरत

 पटना :  बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद नेता लालू प्रसाद यादव को शुक्रवार को झारखंड हाईकोर्ट से बेल तो मिल गयी, लेकिन अभी वे जेल से बाहर नहीं आ पायेंगे. न ही चुनाव प्रचार कर पायेंगे. बेल के बाद भी जेल से बाहर न आ पाने को लेकर राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि यह राजद के लिए किसी झटके से कम नहीं है.  ऐसा इसलिए क्योंकि चुनाव के दौरान वह जेल में ही रह सकते हैं. बता दें कि उन्हें चाईबासा ट्रेजरी केस में जमानत मिली है. यह मामला चारा घोटाले से जुडा हुआ है. वे जेल में ही रहेंगे, क्योंकि दुमका ट्रेजरी केस में उनकी बेल पेडिंग है.

 इसे भी पढ़ें- Corona को लेकर राहत वाली खबरः एक महीने बाद देश में एक्टिव मरीजों की संख्या नौ लाख से कम हुई

Catalyst IAS
ram janam hospital

लालू को आखिरी केस में बेल माह भर बाद यानी नवंबर में बेल मिल सकती है

The Royal’s
Sanjeevani

हाईकोर्ट ने लालू को जमानत के लिए 50-50 हजार के दो निजी मुचलके भरने और दो लाख रुपये की जुर्माना राशि जमा करने को कहा है.  मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार लालू को आखिरी केस में बेल माह भर बाद यानी नवंबर में बेल मिल सकती है. जान लें कि लालू ने सजा (चाईबासा ट्रेजरी केस में) का आधा हिस्सा (50 फीसदी) जेल में काटा है, इस आधार पर उन्हें सभी मामलों में बेल मिल जा रही है.

 इसे भी पढ़ें-बेरमो और दुमका विधानसभा सीट के लिए उपचुनावी दंगल आज से शुरू, मधुपुर पर अभी इंतजार

बता दें कि सूबे में तीन चरणों में 243 सीटों के लिए विधानसभा चुनाव होना है.  पहले चरण का मतदान 28 अक्टूबर, 2020 को है, जिसमें आरजेडी को लालू की कमी खटक सकती है.

दरअसल पूर्व में लालू ने चाईबासा ट्रेजरी मामले में आधी सजा पूरी करने का हवाला दिया था.  साथ ही बेल की अर्जी दी थी.ती सुनवाई में सीबीआई ने कहा कि  आधी सजा पूरी होने में 26 दिन शेष हैं.  फिर केस की सुनवाई नौ अक्टूबर तक टल गयी, जबकि नौ अक्टूबर को बेल दी गई।

आगामी नवंबर महीने में उनकी दुमका मामले में भी आधी सजा पूरी हो जायेगी. माना जा रहा हा कि लालू नवंबर के बाद जेल से बाहर आ सकते हैं.

 

इसे भी पढ़ें-रामविलास पासवान: ऐसे दलित नेता जिनके विपरीत विचारधारा की पार्टियों के साथ भी मधुर संबंध रहे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button