न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अपने डांसिंग आर्ट को अलग पहचान देने के लिए बनाया फ्लाई क्वीन समूह, यूट्यूब पर हुनर को मिला प्लेटफॉर्म

289

Chhaya

Ranchi : सोशल मीडिया ने युवाओं को मंच प्रदान किया है, जहां युवा अपने हुनर को दुनिया के सामने रख सकें. ऐसे ही हुनर को दुनिया के सामने रख रहा है रांची का फ्लाई क्वीन नामक गर्ल्स ग्रुप. यह ग्रुप पिछले एक साल से यूट्यूब पर फ्लाई क्वीन नामक चैनल चला रहा है. बॉलीवुड गानों पर अपनी क्रिएटिविटी दिखाती इन लड़कियों को देखा जा सकता है. इनके चैनल पर व्यूअर्स की संख्या अधिक है. संयोजिका वैशाली कुमारी ने बताया कि फ्लाई क्वीन के साथ काम करनेवाली लड़कियां पहले ईएक्सटी ग्रुप के साथ काम करती थीं, जो यूट्यूब चैनल है. ईएक्सटी की प्रसिद्धि के बाद लगा कि लड़कियों के लिए कुछ अलग करना चाहिए, जिससे लोग जानें कि झारखंड की लड़कियां डांस में किसी से कम नहीं हैं. ऐसे में लड़कियों का एक ग्रुप बना और यूट्यूब चैनल चल पड़ा. वैशाली ने बताया कि चैनल अब इतना प्रसिद्ध हो चुका है कि लोगों के फोन आते हैं कि हम कुछ नया चैनल पर डालें.

11 से 22 साल तक की हैं लड़कियां

वैशाली खुद सप्तक अजितालय डांस एकेडमी में डांस सिखाती हैं. इनके साथ डांस करनेवाली बच्चियों को इन्होंने ग्रुप से जोड़ा. जिन लड़कियों को वैशाली डांस सीखाती थीं, उन्हें इन्होंने कैमरा फेस करना, कैमरा के सामने एक्सप्रेशन देने समेत अन्य गुर सिखाये, जिससे वीडियो को बेहतर बनाया जा सके. उन्होंने बताया कि इनके ग्रुप में 11 से 22 साल तक की लड़कियां हैं. अधिकतर लड़कियों की उम्र 11 से 16 साल है. वर्तमान में इस ग्रुप में लड़कियों की संख्या 10 है.

डांस को अलग पहचान देने के लिए बनाया फ्लाई क्वीन समूह, यूट्यूब पर हुनर को मिला प्लेटफॉर्म

यूट्यूब से सीखा कैमरा हैंडलिंग और एडिटिंग

ग्रुप के साथ जुड़े अनुराग यादव और मनीष कुमार ने बताया कि चैनल की शुरुआत तो कर दी गयी, लेकिन बार-बार वीडियोग्राफर को पैसे देकर वीडियो और एडिटिंग करना मुश्किल था. ऐसे में यूट्यूब से एडिटिंग सीखा, वहीं प्रैक्टिस करते-करते कैमरा हैंडलिंग भी सीख ली. अनुराग ने बताया कि अब अलग-अलग ऐप से वीडियो में इफेक्ट्स भी डाला जा रहा है.

मुश्किल था लोगों तक पहुंचना

अनुराग ने बताया कि ईएक्सटी ग्रुप से ही फ्लाई क्वीन की शुरुआत हुई. शुरुआत में वीडियो बनाना काफी मुश्किल था, क्योंकि ग्रुप में सभी युवा पढ़नेवाले हैं, पढ़ाई के साथ वीडियोग्राफर का खर्च ग्रुप वहन नहीं कर पा रहा था. बार-बार के खर्च से बचने के लिए ग्रुप ने एक बार पैसा जमा किया और कैमरा समेत अन्य जरूरी सामान खरीदा. वहीं, वैशाली ने बताया कि कई बार वीडियो अच्छे होने पर वीडियोग्राफर भी वीडियो देने में आना-कानी करते थे. वहीं एक-दो वीडियो ग्रुप में डालने के बाद से ही लोगों के अच्छे रिसपॉन्स मिलने लगे, तब लगा कि चैनल बंद नहीं किया जा सकता, इससे बेहतर है कि खुद संसाधनों की पूर्ति कर लें.

क्या बात को मिले हैं 35,000 व्यूअर्स

वैशाली ने बताया कि फ्लाई क्वीन चैनल में कई बॉलीवुड गानों का रिमेक बनाया गया है. सभी गाने किसी न किसी थीम पर बनाये जाते हैं. जैसे बैंक रॉबरी, गैंगस्टर, ब्लाइंड डेट, चोरी जैसे थीम पर बेस्ड हैं. चैनल पर दो सप्ताह पहले क्या बात है गाना रिलीज किया गया, जिसे अब तक 35,000 लोगों ने देखा. इन गानों की शूटिंग  इनडोर और आउटडोर लोकेशंस में की जाती है.

शॉर्ट फिल्म बनाने की है योजना

वैशाली और अनुराग ने बताया कि यूट्यूब चैनल पर काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. अब डांस से आगे करने की योजना है. इसमें ईएक्सटी और फ्लाई क्वीन मिलकर शॉर्ट फिल्म, जो झारखंड की समस्याओं पर आधारित हो, सिंगिंग वीडियो समेत अन्य वीडियो चैनल पर डालने की योजना है. इन वीडियोज में बच्चों को भी शामिल किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- दिल में संजोये हैं अरमान, लगाते हैं सैंडविच की दुकान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: