न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

साल भर में राजकोषीय घाटा बजट अनुमान से 134.2% के पार

93

New Delhi : देश का राजकोषीय घाटा फरवरी 2019 के अंत तक पूरे साल के संशोधित बजट अनुमान के 134.2 प्रतिशत पर पहुंच गया है. शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार मुख्य रूप से राजस्व संग्रह की वृद्धि कम रहने से राजकोषीय घाटा बढ़ा है.

लेखा महानियंत्रक (सीजीए) के आंकड़ों के अनुसार अप्रैल-फरवरी, 2018-19 में राजकोषीय घाटा 8.51 लाख करोड़ रुपये रहा है जो पूरे साल के लिए संशोधित बजट अनुमान 6.34 लाख करोड़ रुपये से 134.2 प्रतिशत अधिक है.

केंद्र सरकार की राजस्व प्राप्तियां 12.65 लाख करोड़

हालांकि, आर्थिक मामलों के सचिव एस सी गर्ग ने कहा कि सरकार राजकोषीय घाटे को सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 3.4 प्रतिशत पर सीमित रखने को प्रतिबद्ध है.

आंकड़ों के अनुसार केंद्र सरकार की राजस्व प्राप्तियां 12.65 लाख करोड़ रही जो संशोधित बजट अनुमान का 73.2 प्रतिशत हैं. इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में राजस्व प्राप्तियां बजट अनुमान का 78.2 प्रतिशत थीं. सरकार का कर राजस्व 10.94 लाख करोड़ रुपये और गैर कर राजस्व 1.7 लाख करोड़ रुपये रहा.

2018-19 की अवधि में सरकार का कुल खर्च 21.88 लाख

अप्रैल-फरवरी, 2018-19 की अवधि में सरकार का कुल खर्च 21.88 लाख करोड़ रुपये (बजट अनुमान का 89.08 प्रतिशत) रहा. इसमें से 19.15 लाख करोड़ रुपये राजस्व खाते का 2.73 लाख करोड़ रुपये पूंजी खाता का था.

इस बीच वित्त मंत्रालय ने बयान में कहा कि फरवरी तक केंद्र सरकार ने राज्यों को कर में उनके हिस्से के तहत 5.96 लाख करोड़ रुपये स्थानांतरित किए. यह 2017-18 की समान अवधि से 67,043 करोड़ रुपये अधिक है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: