Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

पहली से आठवीं कक्षा के संशोधित सिलेबस जारी, 50 प्रतिशत तक कटौती

Ranchi: शिक्षा विभाग ने नौवीं से 12वीं तक के संशोधित सिलेबस की जानकारी विद्यार्थियों को देने के बाद अब पहली से आठवीं कक्षा तक के संशेाधित सिलेबस जारी कर दिया है. पहली से आठवीं कक्षा के लिए 50 प्रतिशत तक सिलेबस में कटौती की गयी है.

सत्र 2020-21 में आठवीं के सिलेबस में गणित में 25 फीसदी सिलेबस में कटौती की गयी है. विज्ञान, हिंदी और संस्कृत में 50 फीसदी से अधिक सिलेबस को छोटा किया गया है. इसके साथ ही कई विषयों के चैप्टर को पूरी तरह से हटा दिया गया है.

बच्चों पर अधिक पढ़ाई का दबाव ना हो इसे लेकर सिलेबस छोटा किया गया है. कोविड-19 की वजह से पठन-पाठन पूरी तरह से बंद पड़ा है और सिर्फ ऑनलाइन कक्षाएं ही हो रही है, लेकिन सरकारी स्कूल के अधिकत बच्चे इससे भी वंचित है जिस कारण सिलेबस को छोटा भी किया गया है.

जेईपीसी ने इस संबंध में सारे संशोधित सिलेबस लर्नेटिक्स ऐप में अपलोड भी कर दिया है जिसका उदघाटन मुख्यमंत्री ने मेद्यावी छात्र सम्मान कार्यक्रम के दौरान किया. दो तरह के ऐप में पहली से आठवीं और दूसरे ऐप में नौवीं से 12वीं तक के पाठयक्रम उपलब्ध होंगे.

संशोधित पाठ्यक्रम के आधार पर ही जैक द्वारा परीक्षा में प्रश्न पूछे जाएंगे. विभाग ने बताया कि हिंदी में डायन एकमात्र अंधविश्वास पाठ को अनिवार्य रूप से रखा गया है, जबकि झारखंड के दो सपूत पाठ को हटा दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – सीएम स्वच्छ विद्यालय और संवर्धन ज्ञानसेतु के लिए गिरिडीह के 26 विद्यालयों को गांडेय विधायक ने किया सम्मानित

आठवीं बोर्ड में कटौती

हिंदी – 18 में से नौ पाठ हटाए गए

– बड़े भाई साहब, अमरूद का पेड़, क्या निराश हुआ जाए, झारखंड के दो सपूत, बस की यात्रा, बूढ़ी पृथ्वी का दुख, गुरु शिष्य, पन्ना पन्ना बोलता है और तालाब बांधता धर्म सुभाव.

गणित – 17 में से चार पाठ हटाये गये

– संख्याओं के साथ खेलना, ठोस आकृतियों का चित्रण, द्विविमीय आकृतियों का क्षेत्रफल और आंकड़ों का प्रबंधन.

अंग्रेजी- 20 में 8 अध्याय हटाए गए

– द लैंड ऑफ स्टोरी बुक्स, चैंपियन विमेन, व्हेन सचिन वाक आउट टू बैट, हेरिटेज ऑफ ट्री, बेबी एट ए माइक्रोचिप, टावर ऑफ स्ट्रेंथ यंग वॉइस ऑफ चेंज और ट्राई ट्राई अगेन.

विज्ञान – 18 में से 10 पाठ हटाये गये

– कोशिका, विद्युत धारा के रासायनिक प्रभाव, जंतुओं में जनन, फसल उत्पादन व प्रबंधन, आओ ब्रह्मांड को जाने, घर्षण एक अनिवार्य बल, संश्लेषित रेशे व प्लास्टिक, ध्वनि, प्राकृतिक परिघटनाएं और  भूमिगत इंधन.

इतिहास – 11 में से चार पाठ हटाए गए

– आधुनिक काल में भारत का इतिहास, ब्रिटिश काल में शिक्षा, राष्ट्रीय आंदोलन और झारखंड में हॉकी.

नागरिक शास्त्र – सात में से चार पाठ हटाए गये

– संविधान, संसदीय शासन व्यवस्था, न्यायपालिका और सामाजिक न्याय.

भूगोल –  छह में से दो पाठ हटाए गए

– मृदा, जल, प्राकृतिक वनस्पति व वन्य जीव संसाधन  और उद्योग.

संस्कृत – 17 में से नौ पाठ हटाए गए

– नधाः आत्मकथा  निवारणीया इयं प्रथा, त्यागस्य फलं शुभम, सदाचारः, संस्कृत भाषाः महत्वम, झारखंड प्रांतस्य मडा, विनायक दामोदर सावरकरः, संकल्प सिद्धिदायकः, विमानयानं रचनामः.

इसे भी पढ़ें – सीएम स्वच्छ विद्यालय और संवर्धन ज्ञानसेतु के लिए गिरिडीह के 26 विद्यालयों को गांडेय विधायक ने किया सम्मानित

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: