Crime NewsDeogharHEALTHJharkhand

देवघर: अवैध तरीके से संचालित श्री हॉस्पिटल और सम्राट पैथोलॉजी पर एफआइआर

Deoghar: देवघर में श्री हॉस्पिटल और सम्राट पैथोलॉजी अवैध तरीके से संचालित किए जा रहे थे. इसके विरुद्ध नगर थाना में एफआइआर दर्ज कराया गया है.

मामले में प्राप्त जानकारी के अनुसार सिविल सर्जन के बयान पर बाइपास रोड स्थित नर्सिंग होम श्री हॉस्पिटल अस्पताल गेट के समीप संचालित सम्राट पैथोलॉजी के संचालकों के खिलाफ शुक्रवार को प्राथमिकी दर्ज की गयी है.

दर्ज मामले के अनुसार सिविल सर्जन द्वारा 29 अक्टूबर को नर्सिंग होम श्री हॉस्पिटल का निरीक्षण किया गया था. यहां पारा मेडिकल कर्मी मरीजों का इलाज करते मिले थे. जांच के दौरान संचालक से नर्सिंग होम से जुड़े दस्तावेज की मांग की गयी थी लेकिन उस वक्त संचालक ने दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराया.

31 अक्टूबर को संचालक को 2 दिनों के अंदर पूछे गये स्पष्टीकरण का जवाब देने को कहा गया था. संचालक के जवाब में न तो किसी व्यक्ति का नाम था और ना ही तिथि अंकित थी. इसके अलावा एकमात्र चिकित्सक की सहमति को दर्शाया गया था जबकि नर्सिंग होम में लगे बोर्ड में कई चिकित्सकों का नामांकित किया गया था.

एफआइआर में कहा गया है कि नर्सिंग होम के संचालक द्वारा बिना किसी चिकित्सक के मरीजों का इलाज कराया जा रहा है जो नियम के विरुद्ध होने के साथ-साथ मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – धनवार की दो पत्थर खदानों में छापामारी, विस्फोटक और पांच वाहन जब्त

अवैध रूप से चल रहे लैव के विरुद्ध भी मामला हुआ दर्ज

सदर अस्पताल गेट के समीप संचालित सम्राट पैथोलॉजी के संचालक के खिलाफ भी सिविल सर्जन द्वारा एफआइआर दर्ज करायी गयी है. दर्ज मामले के अनुसार सिविल सर्जन द्वारा उक्त लैब का निरीक्षण किया गया था.

इस दौरान लैब को बिना किसी विशेषज्ञ चिकित्सक के संचालित होते हुए पाया गया. जांच में पाया गया कि संचालक बिना किसी चिकित्सक के परामर्श और बिना पर्चा के ही मरीजों की जांच कर रहा था. लैब संचालक के खिलाफ अवैध तरीके से जांच के नाम पर मरीजों का दोहन करने और जान के साथ खिलवाड़ करने को लेकर मामला दर्ज कराया गया है.

बहरहाल दोनों मामले को लेकर एसपी को लिखित शिकायत देकर कार्यवाही के अनुरोध किया था जिसके बाद एसपी के निर्देश पर नगर थाना में मामला दर्ज किया गया. दोनों मामले को लेकर धारा 420, 270, 34 क्लिनिकल एस्टेब्लिशमेंट एक्ट की धारा 27 और 271 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

इसे भी पढ़ें – मेडिको सिटी में साढ़े तीन सौ करोड़ में बनेगा मेडिकल कॉलेज व हॉस्पिटल, 85 फीसदी सीटें झारखंडी छात्रों के लिए होंगी रिजर्व : हेमंत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: