1st LeadCrime NewsJharkhandRanchiTOP SLIDER

लालपुर थाने में लवकुश शर्मा समेत पांच लोगों पर प्राथमिकी दर्ज, मोरहाबादी मैदान में लगने वाली दुकान से वसूली हो सकती है हत्या की वजह

Ranchi : राजधानी के सबसे सुरक्षित माने जाने वाला मोरहाबादी में गुरुवार को गैंगवार मामले में लालपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी है. शुभम वर्मा के बयान पर पांच लोगों पर नामजद प्राथमिकी दर्ज की गयी है. जिसमें लवकुश शर्मा, सोनू शर्मा, राजु चोटी, बिट्टू व अजय का नाम शामिल है.

पुलिस की प्रारंभिक छानबीन में यह बात सामने आयी है कि मोरहाबादी सब्जी बाजार का ठेका लवकुश शर्मा के फुफेरा भाई सोनू शर्मा के पास था. सोनू के जेल जाने के बाद बाजार का ठेका कालू लामा गिरोह ने छीन लिया. इसी को लेकर सोनू शर्मा खुन्नस पाले हुए था. हाल के दिनों में कालू लामा ने लवकुश शर्मा से जुड़े जमीन कारोबारियों से भी रंगदारी की मांग की. कालू लामा को कई बार हिदायत देने के बाबजुद अपनी हरकत से बाज नहीं आ रहा था. इधर मामले को लेकर लालपुर थाना में शुभम विश्वकर्मा के बयान पर पांच लोगों पर नामजद प्राथमिकी दर्ज की है.

 

मोरहाबादी में सजता है अवैध बाजार

जानकारी के अनुसार मोरहाबादी में नगर निगम के तरफ से करीब 15 प्रतिशत दुकान लगाने का परमिशन दिया गया है. अधिकतर दुकान अवैध रुप से लगायी जाती है. जिसकी वसूली लवकुश शर्मा गिरोह व कालू लामा गिरोह करता था.

बताया जाता है कि यह वसूली पुलिस की सह पर होती थी. इसमें पुलिस की भी हिस्सेदारी होती थी. मोरहाबादी में अक्सर आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों का जमावड़ा रहता था. शाम के बाद अक्सर नशे में विवाद होता था. लेकिन हाई सिक्योरिटी जोन होने के बाद भी मोरहाबादी मैदान में कहीं पुलिस एक्टिव नहीं रहती. इसी का नतीजा है कि गुरुवार को तीन लोगों को गोली मारने के बाद चारों अपराधी आराम से फरार हो गये.

 

एदलहातु एरिया में जमीन कारोबारी कालू को पहुंचाता था पैसा

कुख्यात अपराधी कालू लामा का मोरहाबादी और एदलातू इलाके में काफी खौफ था. इलाके में जमीन कारोबारी कालू को रंगदारी अवश्य देता था. बताया जाता है कि कालू लामा इलाके के जमीन कारोबारियों से प्रत्येक डिसमिल के हिसाब से रंगदारी वसूलता था. वहीं मोरहाबादी मैदान में ठेला-खोमचा लगाने वाले दुकानदार कालू लामा की रंगदारी से परेशान हो गये थे. आये दिन कालू लामा नशे की हालात में हथियार लेकर पहुंच जाता था. रंगदारी देने से मना करने पर मारपीट करता था. हालांकि, दिसंबर में जेल से छूटने के बाद पुलिस लगातार उस पर नजर रख रही थी.

 

इसे भी पढ़ें : शूटआउट के बाद प्रशासन टाइट, बंद होंगी मोरहाबादी की सभी दुकानें

Advt

Related Articles

Back to top button