Jamshedpur

आमदापहाड़ी में आदिवासी परिवार को बंधक बनाने में 8 लोगों पर नामजद प्राथमिकी

Patamda : पटमदा थाना क्षेत्र के घोर नक्सल प्रभावित आमदापहाड़ी गांव में एक ही परिवार के 8 लोगों को बंधक बनाने के मामले में पटमदा पुलिस ने कुल 8 लोगों पर नामजद प्राथमिकी दर्ज की है जबकि 20-30 अज्ञात को भी आरोपी बनाया गया है. अज्ञात की पहचान पुलिस कर रही है. उसके बाद उसकी भी गिरफ्तारी की जाएगी.

इसे बनाया गया है आरोपी

आमदापहाड़ी के रहने वाले मंगल सिंह, रंजीत सिंह, लालटू सिंह, संजय सिंह,रोहित सिंह, मुड़ीराम सिंह, सविता सिंह के अलावा अन्य 20-30 अज्ञात को आरोपी बनाया गया है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

क्या था मामला

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इस संबंध में पीड़ित परिवार के मुखिया सोहन सिंह का आरोप है कि गांव के ही स्वजाति भूमिज समुदाय के लोगों ने झूठे आरोप में उनके परिवार की 4 महिलाओं समेत 8 सदस्यों  को बंधक  बना लिया गया था. इसके पहले आघनु सिंह के घर के पास मारपीट और गाली गलौज की गई थी.

यह था कसूर

उनका कसूर सिर्फ इतना था कि गांव में बुलाये गये पंचायती में उनलोगों ने जाने से इनकार कर दिया था. 21 अक्टूबर को उसका एक बैल मर गया था. मामले में भूमिज समुदाय के लोगों ने उनकी बेटी पर डायन होने और बैल को मारने का आरोप लगाया था. इसी को लेकर पंचायत बैठी थी.

पुलिस बल के पहुंचते ही फरार हो गए थे आरोपी

घटना की जानकारी मिलते ही पटमदा इंस्पेक्टर हीरालाल महतो, थाना प्रभारी अशोक राम, एसआई मुकेश कुमार यादव व अगस्टीन लुगुन दल-बल के साथ दोपहर 12 बजे गांव पहुंचे थे. इसके बाद सभी आरोपी वहां से फरार हो गए थे. पुलिस ने बंधक बने सभी 8 ल गों को मुक्त कराया और थाने पर लेकर गई थी. थाना प्रभारी ने कहा कि किसी को भी कानून हाथ में नहीं लेने का अधिकार नहीं है.

इसे भी पढ़ें- सांसद ने चैंबर भवन में किया दीप मेला का उद्घाटन, कहा- स्वदेशी को बढ़ावा दें

 

Related Articles

Back to top button